[neemuch] - ऐसा क्या हुआ जो 100 रुपए किलो के नींबू फेंकने को मजबूर हुए अन्नदाता

  |   Neemuchnews

नीमच/अठाना. चंद दिनों पहले जिस नींबू के दाम आसमान छू रहे थे। आम उपभोक्ताओं को 10 से 20 रुपए खर्च करने पर दो चार नींबू ही मिल पाते थे। उनमें भी पर्याप्त रस नहीं होता था। वही नींबू के दाम आज जमीन पर आ टीके हैं। हालात यह हो गए हैं कि किसानों को अपने बगीचे से निकाले गए नींबू के सही दाम नहीं मिलने के कारण फेंकने को भी मजबूर होना पड़ रहा है। क्योंकि कई बार मंडी में ले जाने के बाद भी अन्नदाता को नींबू के सही दाम नहीं मिल रहे हैं।

बतादें की गर्मी के मौसम में नींबू शहर के बाजार में 100 से 110 रुपए किलो बिक रहा था। ऐसे में आम उपभोक्ताओं को 100 ग्राम नींबू खरीदने के लिए भी 10 से 14 रुपए चुकाने पड़ते थे। उसमें भी अच्छे नींबू ढूंढे नहीं मिलते थे। ऐसे में मजबूरी में उपभोक्ता जो नींबू मिलते थे वही लेने को मजबूर हो जाते थे। उसी नींबू के दाम इन दिनों फुटकर बाजार में 15 से 20 रुपए किलो हो गए हैं। ऐसे में उपभोक्ताओं को तो कोई फर्क नहीं पड़ा। लेकिन उन अन्नदाताओं के सामने यह घाटे का सौदा साबित हो रहा है जिनके बगीचे से प्रतिदिन कई क्ंिवटल नींबू का उत्पादन प्राप्त होता है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/luh8NgAA

📲 Get Neemuch News on Whatsapp 💬