[raipur] - गऊ माता के होगे हे 'मरे बिहान!

  |   Raipurnews

राजू ह जोर-जोर से पढ़त रहय। गाय हमर महतारी ए। ऐहा पालतू जानवर ए। ऐहा हमन ल दूध देथे। ऐहा दुनिया के कतकोन जगा मिलथे। हमर देस म गाय ल लछमी दाई मान के सम्मान देथें, पूजा करथें। गाय ल सबो जानवर म पबरित माने जाथे। ऐला सुनके बबा पूछिस- का पढ़त हस, बेटा? राजू बोलिस- गुरुजी ह गाय के रचना याद करके आय बर कहे हे।

बबा कहिस- बने पढ़ बेटा। फेर, जउन पढ़त हस वोला जिनगी भर सुरता घलो राखबे। गाय ल महतारी कहिबे त वोकर देखभाल, सेवा-जतन घलो करबे। देखत-सुनत हस ना, आजकाल देसभर म गऊ माता के का हाल होवत हे। वोला लेके कइसे 'राजनीतिÓ चलत हे। गोसालामन म न चारा-पानी देवंय, न दवई। कतकोन गायमन भूख, पियास अउ बीमारी, कुपोसन के सेती मर गें। लालची अउ सुवारथी मनखेमन गोसेवा के नांव म सरकार से लाखों रुपिया अनुदान लेके डकार लेवत हें।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/agLCCwAA

📲 Get Raipurnews on Whatsapp 💬