[rampur] - 22 सचिवों पर चला प्रशासन का डंडा, प्रतिकूल प्रविष्ट

  |   Rampurnews

रामपुर। जिले को खुले में शौच से मुक्त करने की कवायद को ग्राम स्तर पर झटका दिया जा रहा है। ग्राम सचिव और प्रेरक इसमें लापरवाही बरत रहे हैं। यहां तक कि वे डीएम की ओर से बुलाई गई समीक्षा बैठक तक में नहीं पहुंचे,जिस पर डीएम ने 22 ग्राम सचिवों को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के आदेश कर दिए जबकि छह प्रेरकों की सेवा समाप्ति का नोटिस जारी कर दिया।

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत समस्त खण्ड विकास अधिकारी, एडीओ पंचायत एवं सचिवों के साथ बैठक बुलाई गई थी। बैठक में चमरौवा के नौ , सैदनगर के दो, बिलासपुर के चार एवं मिलक के सात सचिवों सहित कुल 22 सचिवों के बैठक में अनुपस्थित रहने पर जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता वाले कार्यक्रम से संबंधित बैठक में अनुपस्थित होना सचिवों की लापरवाही का प्रमाण है, इसलिए भविष्य में लापरवाही पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बैठक में गैर हाजिर रहने पर मिलक के खंड प्रेरक शाहीन, रंजीत, बिलासपुर के लकी व सूरज तथा सैदनगर के उमाकांत, शाबिर के अनुपस्थिति पर अत्यन्त नाराजगी जताई तथा आवश्यक कार्रवाई के साथ ही सेवा समाप्त करने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि ऐसे गांव जो ओडीएफ होने के अन्तिम चरण में है वहां प्राथमिकता के साथ निर्माण कार्य तेज करा दें तथा जहां शौचालयों का निर्माण अभी अवशेष है तथा संबंधित सचिव व एडीओ ने निर्माण हेतु धनराशि की मांग नहीं की है वे तत्काल मांग प्रेषित कर दें अन्यथा निर्धारित समयावधि के बाद यदि शौचालय निर्माण के लिए कोई पात्र पाया जाता है तो सम्बन्धित सचिव के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। सीडीओ शिवेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि शौचालय निर्माण के सत्यापन की आख्या सचिव, खण्ड विकास अधिकारी के माध्यम से सम्बन्धित नोडल अधिकारी को उपलब्ध करा दें। इस अवसर पर डीडीओ कमलेश सचान समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/yUwQPwAA

📲 Get Rampur News on Whatsapp 💬