[sukma] - हरीश के पास नहीं थे किताब खरीदने के पैसे, लेकिन अपनी दृढ़ निश्चय के चलते अब बनेगा डॉक्टर

  |   Sukmanews

सुकमा. दृढ़ निश्चय के साथ डॉक्टर बनने का सपना मन में ठाने हुए हरीश पोडियाम ने सपने को साकार कर दिखाया है। उसके कठिन परिश्रम का नतिजा है कि आज उसका चयन एमबीबीएस के लिए हुआ है। आर्थिक स्थिति से कमजोर व गरीब परिवार से ताल्लुख रखने के बावजूद विपरित परिस्थितियों का सामना करते हुए अपने सपने को सच कर दिखा है।

इस खबर के बाद परिजन बेहद खुश है। हरीष पोडियामी के पिता की कुछ वर्ष पहले एक सडक दुघर्टना में मौत हो चूकी है। लेकिन उसके बाद भी हरीश ने कभी हारी नहीं मानी। जिले के अति माओवदी प्रभावित क्षेत्र से निकलकर अपनी प्रारंभिक शिक्षा सुकमा ब्लॉक के रामपुराम स्थित गुट्टागुडा शासकीय बालक आश्रम रहते हुए कक्षा 1 से 5 वीं तक की पढ़ाई की। उसके बाद नवोदय की परीक्षा में शामिल हुआ। इसमें चयनित होने के बाद की पढ़ाई कक्षा 6वीं से 10वीं तक सुकमा नवोदय विद्यालय से की। वर्ष 2015-16 में 10वीं की परीक्षा 89 प्रतिशत से उत्तीर्ण की।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/UVnGrQAA

📲 Get Sukmanews on Whatsapp 💬