[uttarakhand] - त्रियुगीनारायण.... सात फेरे लीजिए वहां, शिव-पार्वती का विवाह हुआ था जहां

  |   Uttarakhandnews

को देवभूमि भी कहते हैं और इसकी वजह हैं यहां के मंदिर, आस्था और परंपराएं. चार धामों के अलावा भी कई ऐसे आस्था के केंद्र है जहां देश भर से श्रद्धालु खिंचे चले आते हैं. आज हम आपको बता रहे हैं भगवान विष्णु के ऐसे मंदिर के बारे में जो श्रद्धा के चलते तो भक्तों को खींच ही रहा है, एक उभरता हुआ वेडिंग डेस्टिनेशन भी है. रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ धाम जाते समय सोनप्रयाग से एक सड़क दाईं तरफ जाती है. इसी सड़क पर लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर है भगवान विष्णु का मंदिर त्रियुगीनारायण. कहा जाता है कि इस मंदिर के आंगन में ही भगवान शिव और पार्वती का विवाह हुआ था जिसके साक्षी खुद भगवान विष्णु बने थे....

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/w36prQAA

📲 Get uttarakhandnews on Whatsapp 💬