[alwar] - राजस्थान के इस सरकारी कॉलेज को नोटबंदी के 22 महीने बाद बदलने के लिए याद आए पुराने नोट, अलमारी में रखे हैं इतने लाख के पुराने नोट

  |   Alwarnews

अलवर. राजर्षि महाविद्यालय में पांच साल पहले एक लाख 3600 रुपए की जब्त राशि जमा करने के मामले में कॉलेज निदेशालय को नोटबंदी के एक साल 10 महीने बीतने के बाद यह नोट बदलने की याद आई है। इस कॉलेज में जब्त राशि का लिफाफा इतने साल बाद खोला गया है।

सन् 2012 में प्रायोगिक परीक्षाओं के नाम पर एक कॉलेज की एक कक्षा के विद्यार्थियों से पैसे जमा किए गए। इस मामले की शिकायत होने पर यह राशि जब्त कर ली गई। यह राशि एक लाख 3 हजार 600 रुपए थी जिसे किसी भी व्याख्याता ने अपनी तरफ से जमा करवाने की बात से इनकार किया। यह राशि कॉलेज प्रशासन ने जब्त कर लिफाफे को सीलबंद करके रख दिया गया। इस मामले में तत्कालीन प्राचार्य ने कॉलेज निदेशालय को लिखा लेकिन उन्होंने इस राशि के बारे में कोई निर्णय नहीं दिया। यही नहीं नोटबंदी के दौरान भी यह राशि तत्कालीन प्राचार्य डॉ. अनूप सक्सेना के कार्यकाल में जमा नहीं कराई गई। यह राशि विद्यार्थियों से एकत्रित की गई थी जिसे लेने विद्यार्थी भी नहीं आए। नोटबंदी से पहले नोट जमा कराने के कई अवसर दिए गए लेकिन कॉलेज प्रशासन ने इस राशि को नहीं बदलवाया। इसमें एक लाख रुपए की राशि 500 और एक हजार रुपए के नोट की थी।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/jhQgTgAA

📲 Get Alwar News on Whatsapp 💬