[durg] - सरकार की जय हो: गरीब चाय वाले को चावल वाले बाबा की संजीवनी पड़ गई भारी, RTI में खुला बड़ा राज

  |   Durgnews

दुर्ग. मुख्यमंत्री संजीवनी कोष से शहर का निषाद परिवार को सहायता तो नहीं मिली बल्कि सहायता के लिए मंत्रालय का चक्कर लगाते परिवार कर्जदार जरूर हो गया। गिरने से सिर पर आई गंभीर चोट के ऑपरेशन का बिल चुकाने से लेकर मंत्रालय के चक्कर लगाने के बाद इस परिवार की आर्थिक स्थिति चरमरा गई है।

सिस्टम से परेशान होने के बाद जब सूचना का अधिकार के तहत आवेदन लगाया तो चाय बेचने वाला यह परिवार हतप्रभ रह गया। नौ माह बाद पीडि़त परिवार को जानकारी हुई कि जिस मदद के लिए वह चक्कर लगा रहा है उसका आवेदन अपात्र की श्रेणी में है। आवेदन निरस्त होने का कारण भी अलग-अलग बताया गया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/NhKo6QAA

📲 Get Durgnews on Whatsapp 💬