[fatehpur] - दो हजार बीघे फसलें नष्ट, 15 हजार लोग प्रभावित

  |   Fatehpurnews

पानी का तेज बहाव बाढ़ पीड़ितों के लिए खतरे की घंटी बन गया है। बाढ़ से दो हजार बीघे फसलें नष्ट हो गई हैं। वहीं 15 हजार लोग प्रभावित हैं। करीब डेढ़ दर्जन गांव में बाढ़ की चपेट में हैं। इनमें पांच गांव खतरे में हैं जिससे ग्रामीणों में दहशत है। प्रशासन की ओर से मिल रही मदद नाकाफी साबित हो रही है। इन बदतर हालातों में भी अभी तक किसी जनप्रतिनिधि के न पहुंचने से ग्रामीणों में नाराजगी है।

पानी का बहाव तेज होने से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के चारो तरफ पानी ही पानी है। पानी के सैलाब में धान, बैंगन, भिंडी, अरहर, तिल्ली, मिर्च सभी कुछ डूब गए हैं। खेतों में चौतरफा पानी ही पानी है। दो हजार बीघे फसलें पूरी तरह नष्ट हो गई हैं। ऐसे में मवेशियों के चारे की समस्या हैं। बाढ़ से बेरीनारी, रामघाट, बिंदकी फार्म, बेनी खेड़ा, जाड़े का पुरवा, औसेरी खेड़ा, काली कुंडी, पचघरा, सदनहा, बड़ाखेड़ा, नया खेड़ा, मल्लू खेड़ा, बंबुरी खेड़ा, मदारपुर गांव प्रभावित है। इनमें बेरीनारी, रामघाट, जाड़े का पुरवा, बिंदकी फार्म, बेनीखेड़ा में खतरा अधिक है। बाढ़ क्षेत्रों में हर तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है। पांडु नदी गंगा में मिल गई है। बुधवार रात तक बाढ़ प्रभावित क्षेत्र जाड़े का पुरवा और औसेरीखेड़ा का भी सड़क कट जाने से संपर्क टूट सकता है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/vJKSKAAA

📲 Get Fatehpur News on Whatsapp 💬