[haridwar] - गुरुकुल में कई बार रक्तरंजित हुए छात्रसंघ के चुनाव

  |   Haridwarnews

हरिद्वार। संयम और शांति का संदेश देने वाले गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव पर हिंसा और खूनी संघर्षों के छींटे अक्सर पड़ते रहे हैं। करीब एक दशक पहले यहां चुनाव के दौरान हुई हिंसा के बीच छात्रों के हमले में एक दरोगा की आंख की रोशनी ही चली गई थी। प्रदेशभर में खासा चर्चित रहा ये मामला छात्र राजनीति के काले अध्याय के रूप में आज भी याद किया जाता है।

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय की राजनीति का हुड़दंग और हिंसा से पुराना नाता है। कई छात्र नेता और उनके समर्थक अक्सर गुरुकुल से सटी कनखल की कॉलोनियों में अक्सर हुड़दंग करते रहते हैं। जहां तक चुनावी माहौल की बात है तो हर बार यहां चुनाव पर हिंसा के खूनी छींटे पड़ते रहे हैं। वर्ष 2006-07 में हुए छात्रसंघ चुनाव के दौरान शांति व्यवस्था बनाने गई पुलिस पर ही छात्रों ने पथराव कर दिया था। उस दौरान कनखल थाने में तैनात दरोगा डीपी बहुगुणा की एक आंख की रोशनी चली गई थी। इसके अलावा कई अन्य पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई थी। कई छात्र भी घायल हुए थे। प्रदेशभर में ये मामला इतना चर्चित रहा कि गुरुकुल का एक छात्र नेता जिले के टॉप दस अपराधियों में शामिल रहा। चुनाव से इतर भी गुरुकुल छात्रसंघ के कई नेता कहीं हत्या तो कहीं अपहरण तो कहीं बवाल के मुकदमों में वांछित रहे हैं। कनखल थानाध्यक्ष ओमकांत भूषण ने बताया कि चुनाव का शांतिपूर्ण ढंग से कराने के प्रयास किए जाएंगे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/02C5YQAA

📲 Get Haridwar News on Whatsapp 💬