[jharkhand] - जब नक्सलियों ने चारो तरफ से घेरकर एसपी समेत 6 पुलिसवालों को भून डाला था

  |   Jharkhandnews

पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार हत्याकांड में पांच साल बाद फैसला आया. दुमका कोर्ट ने इस मामले में दो नक्सली सुखलाल मुर्मू उर्फ प्रवीर और सनातन वास्ती उर्फ ताला को दोषी करार दिया, जबकि पांच साक्ष्य के अभाव में बरी हो गये. साल 2013 में इस घटना ने झारखंड के पूरे पुलिस तंत्र को झकझोर कर रख दिया था.

घटना 2 जुलाई 2013 का है. तब के पाकुड़ एसपी अमरजीत बलिहार डीआईजी प्रिया दुबे की मीटिंग में शामिल होने दुमका पहुंचे थे. मीटिंग के बाद वे दुमका से पाकुड़ लौट रहे थे. इसी क्रम में दुमका-पाकुड़ मुख्य मार्ग पर काठीकुंड के आमतल्ला गांव के समीप घात लगाए नक्सलियों ने उनकी गाड़ी पर गोलियों की बौछार कर दी थी. इस हमले में एसपी बलिहार समेत चार जवान मौके पर ही शहीद हो गए थे, जबकि एक जवान की मौत अस्पताल ले जाने के क्रम में हुई थी....

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/I0eUpwAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬