[sonebhadra] - जलस्तर बढने से कई गांवों में बाढ़ का मंडरा रहा खतरा

  |   Sonebhadranews

सोनभद्र। जिले में रूक-रूक कर हो रही बारिश से नदी, नाले, बंधियों एवं जलाशयों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। इससे नदी, जलाशयों के सीमावर्ती इलाकों के गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा है। इसको देखते हुए पुलिस प्रशासन बाढ़ से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। एसपी ने थाना प्रभारियों से बाढ़ से जो गांव प्रभावित हो सकते हैं उनकी रिपोर्ट तलब की है।

बता दें कि पिछले कई दिनों से रूक-रूक कर हो रही बारिश से सोन, कनहर, बकहर, बेलन, कर्मनाशा, रिजुल, लौवा नदी, रिहंद जलाशय, नगवां बांध, धंधरौल बांध, सिलहट बांध, बलुई बंधी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। दो दिन पूर्व एशिया के विशालतम जलाशयों में से एक रिहंद बांध का जलस्तर 862 फीट तक जहां पहुंच गया था। वहीं धंधरौल बांध और नगवां बांध का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। वहीं धंधरौल बांध के जलस्तर 32 फीट के पार कर जाने के कारण 22 फाटक और नगवां बांध का जलस्तर 58 फीट पार करने के कारण आठ फाटक खोल दिए गए हैं। चतरा ब्लॉक के सिलहट बांध, कर्मनाशा नदी के उफान पर होने से नगवां बांध, मांची थाने जाने वाले मार्गों पर आवाजही बंद हो गई थी और भैसहिया नाले, पुरान पानी छलके और पचान नदी के रपटे पर कई फीट पानी चल रहा था। सहायक अभियंता धंधरौल राजीव ने जलस्तर के बढ़ोत्तरी को देखते हुए बांध के निचले इलाके और आसपास के ग्रामीणों को सचेत कर दिया है। नदी, नाले, बंधी और जलाशयों में तेजी से पानी बढ़ने से सीमावर्ती इलाकों के गांवों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। पुलिस अधीक्षक किरीट राठौड़ ने सभी थाना प्रभारियों को बाढ़ की चपेट में जो गांव आ सकते हैं उनकी सूची तैयार कर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। एसपी ने कहा कि थाना और चौकी प्रभारियों को बारिश के दौरान अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमण कर लोगों को सतर्क रखने का निर्देश दिया गया है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/uOb3dAAA

📲 Get Sonebhadra News on Whatsapp 💬