[tehri] - खुले आसमान के नीचे पढने को मजबूर छात्र-छात्राएं

  |   Tehrinews

नई टिहरी। प्रतापनगर ब्लॉक के जूनियर हाईस्कूल बनाली का भवन लंबे समय से जर्जर बना है, जिससे छात्र खुले आसमान के नीचे ही पढ़ने को मजबूर हैं। अभिभावकों का कहना है कि कई बार मांग करने पर भी भवन का पुनर्निर्माण नही हो रहा है। वहीं स्कूल में बिजली और पेयजल से भी जूझना पड़ रहा है।

प्रतापनगर ब्लॉक के राजकीय जूनियर हाईस्कूल बनाली का जर्जर भवन हादसे को न्योता दे रहा है। वर्तमान में स्कूल में 32 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। कक्षा छह से आठ तक संचालित स्कूल में दो कमरों में ही कक्षाएं और कार्यालय चल रहे हैं। प्रधान सीता देवी, क्षेत्र पंचायत सदस्य रजनी धनाई, त्रिलोक धनाई, सतपाल रावत, ध्यान सिंह, मुलायम सिंह रावत, विजय धनाई, अमित का कहना है कि सालों से जर्जर भवन के पुनर्निर्माण की मांग शिक्षा विभाग से लेकर जिला प्रशासन से की जा चुकी है। बावजूद समस्या का समाधान नही हो रहा है। साथ ही स्कूल में पेयजल और विद्युत व्यवस्था भी खराब पड़ी है। एबीईओ विनोद सिंह का कहना है कि वर्तमान में स्कूल सेवा-टीएचडीसी से निर्मित दो और सांसद निधि से निर्मित एक कक्ष में चल रहा है। वर्ष 2005 में स्कूल के भवन को पांच लाख मिले थे। इस दौरान विवाद होने के चलते भवन निर्माण नहीं हो पाया। धनराशि विभाग के खाते में जमा है। पुराने भवन का ध्वस्तीकरण न होने के चलते वर्तमान में पैसा नही मिल पाया है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/6jaTbwAA

📲 Get Tehri News on Whatsapp 💬