[uttarkashi] - तीर्थयात्रियों को भुगतना पड़ रहा है यमुनोत्री पैदल मार्ग पुनर्निर्माण की धीमी गति का खामियाजा

  |   Uttarkashinews

बड़कोट (उत्तरकाशी)। डेढ़ माह पूर्व राम मंदिर के निकट ध्वस्त हुए जानकीचट्टी-यमुनोत्री पैदल मार्ग का अभी तक पुनर्निर्माण नहीं होने के कारण तीर्थयात्रियों को जोखिम भरी यात्रा करनी पड़ रही है। पुनर्निर्माण जल्द कराने के लिए स्लेक्शन बांड के तहत करीब 25 लाख रुपये लागत से चल रहे कार्य की धीमी गति और गुणवत्ता पर लोगों ने सवाल खड़े किए हैं।

बीते 17 जुलाई को यमुना नदी में आए उफान से यमुनोत्री धाम में भारी नुकसान होने के साथ ही राम मंदिर के पास जानकीचट्टी-यमुनोत्री पैदल मार्ग का करीब तीस मीटर हिस्सा पूरी तरह तबाह हो गया था। तब डीएम डा. आशीष चौहान ने यमुनोत्री धाम का दौरा कर लोनिवि को एक हफ्ते के भीतर यह रास्ता दुरुस्त कराने और तब तक आवाजाही के वैकल्पिक इंतजाम करने के निर्देश दिए थे। लोनिवि ने यहां खड़े पहाड़ पर पत्थर चिन कर आवाजाही चालू कराने के साथ ही स्लेक्शन बांड पर 25 लाख रुपये लागत से स्थायी रास्ते का निर्माण शुरू करा दिया था, लेकिन अभी तक रास्ता तैयार नहीं हो पाया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/cv41YQAA

📲 Get Uttarkashi News on Whatsapp 💬