[allahabad] - किले से ही शुरू होता था परकोटे का शहर

  |   Allahabadnews

प्रयागराज। अद्भुत वास्तु शिल्प के साथ ही यमुना किनारे बना अकबर का किला सामारिक दृष्टि से महत्वपूर्ण होने के मद्देनजर ही बनाया गया था। किले से ही परकोटे के शहर का बसना आरंभ हुआ था, जिसका पश्चिमी’ प्रवेश द्वार’ खुल्दाबाद में रहा। किले की दीवार से ही शुरू परकोटे दरियाबाद होते हुए खुल्दाबाद तक जाते थे। तकरीबन तीन ओर जल से घिरे किले के पूर्व की ओर कोई रास्ता नहीं था। सिर्फ पीपे का एक पुल था, रस्सी से दूसरा पुल बन जाता था। किले की स्थापना इसलिए भी की गई थी कि यहीं वह दक्षिण विजय कर सके।

किले के भीतर एक दीवार और भी है, दोनों दीवारों के बीच में खाई बनी हुई है जिसमें जल भरा रहता था। बाहरी वाली दीवार दरियाबाद होते हुए खुल्दाबाद तक गई थी, सराय खुल्दाबाद में यह दीवार, परोकाटा आज भी दिखता है। किले में दो बडे़ अधिकारी रहते थे, एक सूबेदार और दूसरा किलेदार। तीसरा प्रांतीय बक्शी भी किले में ही रहता था, जो सेना की व्यवस्था देखता था। बक्शी ने ही किले की सुरक्षा के लिए बक्शी बांध बनवाया था। नदी पर पुल बनवाना, यातायात व्यवस्था देखना भी उसी के जिम्मे था। जल यातायात, जल परिवहन मीर बहर देखता था। उसका आफिस गैरिसन इंजीनियर के आफिस के बगल में था।...

फोटो - http://v.duta.us/G5bo8AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/YcxQ5gAA

📲 Get Allahabad News on Whatsapp 💬