[chhatarpur] - गर्भवती महिला की मौत से गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में किया हंगामा

  |   Chhatarpurnews

छतरपुर. जिला अस्पताल के प्रशव वार्ड में आए दिन डॉक्टरों और स्टाफ की लापवाही सामने आ रही है। कभी वहां की सिस्टर द्वारा मरीजों और उनके परिजनों के साथ बदसलूकी की घटना सामने आती है तो कभी डॉक्टरों की लापरवाही सें मरीजों की मौत हो रही है। लेकिन इसके बाद भी यहां के अधिकारी अपने सीटों की रखवाली करने से फुर्सत नहीं मिल रही है। जिससे आए दिन जिला अस्पताल में इलाज ेक अभाव में मरीजों की मौत हो रही है।

जानकारी के अनुसार लवकुशनगर निवासी सोफिया (28) पत्नी निसार खान को गुरुवार को प्रसव पीड़ा होने पर परिजनों द्वारा उसे स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां पर डॉक्टरों ने बताया कि महिला के गर्भ में दो बच्चे हैं। इसके बाद डॉक्टरों द्वारा महिला के एक बच्चे की स्वस्थ डिलेवरी करा ली गई। लेकिन डॉक्टर ने बताया कि दूसरे बच्चे की मौत पेट में ही हो गई। जिस पर स्थानीय डॉक्टरों द्वारा महिला को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। जहां पर परिजन महिला को करीब 3 बजे लेकर पहुंचे। परिजनों का आरोप है कि उन्होंने महिला को जिला अस्पताल में 3 बजे भर्ती किया था। लेकिन शाम 5 बजे तक किसी डॉक्टर ने नहीं देखा। 5 बजे के बाद ड्यूटी पर मौजूद डॉ भावना त्रिपाठी आई और उन्होंने जांच कर खून की कमी बताई। इसके बाद परिजन महिला के लिए खून की व्यवस्था करने ब्लड बैंक पहुंचे। जहां पर करीब आधा घंटा से अधिक लगा दिया। परिजनों ने बताया कि खून की व्यवस्था होने के बाद भी ब्लड बैंक कर्मचारियों से बार-बार निवेदन करने के बावजूद भी उन्होंने जल्द ब्लड नहीं दिया। जिससे करीब 6.15 बजे महिला की मौत हो गई। घटना के बाद गुस्साए परिजनों द्वारा जिला अस्पताल में हंगामा कर दिया और डॉक्टर व अस्पताल स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए उन पर कार्रवाई की मांग की। हंगामे की सूचना सिटी कोतवाली को दी गई। मौके पर पहुंची सिटी कोतवाली पुलिस द्वारा परिजनों को समझा कर शांत कराया गया। वहीं मौके पर पहुंचे आरएमओ डॉ आरपी गुप्ता ने लापरवाही करने वालों पर कार्रवाई करने की बात कही।

फोटो - http://v.duta.us/iuiuPwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/_hv24gAA

📲 Get Chhatarpur News on Whatsapp 💬