[haridwar] - गुलदार प्रकरण में फिर बदले गए जांच अधिकारी

  |   Haridwarnews

हरिद्वार। राजाजी टाइगर रिजर्व की दूधियाबंद बीट में गुलदार और बाघ का मांस मिलने के प्रकरण में एक बार फिर जांच अधिकारी को बदल दिया गया है। अपर मुख्य सचिव डा. रणबीर सिंह ने जांच अधिकारी मुख्य वन संरक्षक मनोज चंद्रन को तत्काल प्रभाव से हटाकर निदेशक सनातन सोनकर को जांच अधिकारी नियुक्त किया है।

विगत मार्च में राजाजी टाइगर रिजर्व की दूधियाबंद बीट में गुलदार और बाघ का मांस व हड्डियां मिली थी। तब इस प्रकरण की जांच वार्डन कोमल सिंह को सौंपी गई। कोमल सिंह प्रकरण का खुलासा करने के करीब ही पहुंचने वाले ही थे कि उन्हें हटाकर मुख्य वन संरक्षक मनोज चंद्रन को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया। प्रकरण में रेंजर अनूप गुसाईं सहित दो अन्य वनकर्मी को आरोपी पाते हुए देहरादून संबद्ध कर दिया गया। कुछ समय बाद हाईकोर्ट ने सीबीआई से प्रदेश में गुलदार और बाघ की मौत की जांच कराने का आदेश दिया। जिसके बाद दूधियांबद बीट के प्रकरण की जांच करने सीबीआई की टीम देहरादून पहुंची। कई अधिकारियों और अन्यों के सीबीआई ने बयान दर्ज करवाए, लेकिन कुछ दिन बाद ही सीबीआई में रार उत्पन्न हो गई। इसी बीच जांच में सुप्रीम कोर्ट से स्टे भी मिल गया। जिसके बाद पूरे प्रकरण की जांच ठंडे बस्ते में चली गई। अब जांच फिर से शुरू हुई तो जांच कर रहे मुख्य वन संरक्षक मनोज चंद्रन को तत्काल प्रभाव से हटाकर राजाजी टाइगर रिजर्व के निदेशक सनातन सोनकर को अपर मुख्य सचिव डा. रणबीर सिंह ने जांच अधिकारी नियुक्त किया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/CT5J9AAA

📲 Get Haridwar News on Whatsapp 💬