[tonk] - टोंक की कला राष्ट्रपति भवन में बनी शोभा, जो देखता है वहीं हो जाता है मुरीद, देश ही नहीं विदेश में भी बन रही है पहचान

  |   Tonknews

राजेन्द्र बागड़ी

देवली. लकड़ी के आकार को देखते ही कलाकार के मन की कल्पना साकार हो उठती है व जब हाथ और अंगुलिया हरकत में आती है, तो कुछ दिनों में ही मनमोहक कलाकृतियोंं का सृजन हो उठता है। यंू तो पारखी कलाकार की आंखे लकड़ी की गिठानों, मोड़ व मोटाई भांप लेती है कि, आखिर उसे क्या रूप देना है।

फिर घंटो कड़ी मशक्कत, घिसाई के बाद उसे साकार रूप मिलता पाता है। ऐसी ही क्षेत्र के पनवाड़ गांव की लकड़ी की कलाकृतियां आज देश ही नहीं विदेश में भी पहचान बना रही है। जो वर्तमान में देश के बड़े जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों व अभिजात्य वर्ग की पसंद बन रही है। लकड़ी की कलाकृति पनवाड़ निवासी रवि कुमार जांगिड़ बनाते है।...

फोटो - http://v.duta.us/DZbcZAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/6IqltQAA

📲 Get Tonk News on Whatsapp 💬