[udaipur] - पैदा होते ही मां ने पालने में छोड़ा तो सात समंदर पार से आए नए मां-बाप, प​​​​िढ़ए नन्नी रोहिणी की खबर

  |   Udaipurnews

उदयपुर . मां ने उसे बोझ समझ पालने में छोड़ दिया तो नियति ने नन्ही जान को हेपेटाइटिस व टीबी जैसी गंभीर बीमारियों के गहरे जख्म देकर दोहरी मार दे दी। राजकीय शिशुगृह में रोहिणी के नाम से 10 माह तक पली-बढ़ी इस नन्ही जान को देश में तो किसी ने नहीं अपनाया लेकिन प्रबल भाग्य के कारण उसे लेने इटली सेनए मां-बाप आए।

कर्नाटक मूल के उसके नए पिता खुद हेपेटाइटिस की बीमारी की हालत में 6 माह की उम्र में इटली में गोद गए थे और वहीं पढ़-लिखकर बड़े हुए। उन्होंने भी विवाह के बाद स्वयं की संतान से पहले अनाथ को गोद लेने का मन बनाया और तय किया कि वे उसी बच्चे लेंगे जिसे कोई लेना नहीं चाहता हो और उसे उपचार की जरूरत हो। पत्नी ने उसकी इस इच्छा की कद्र की और तीन साल तक पति के साथ ऑनलाइन ऐसे बच्चे को खोजती रही। इन दोनों की खोज रोहिणी पर खत्म हुई। इटालियन दम्पती बुधवार को यहां राजकीय शिशुगृह पहुंचे, जहां बाल अधिकारिता विभाग की सहायक निदेशका मीना शर्मा, शिशुगृह की अधीक्षक वीना मेहरचंदानी, सीडब्ल्यूसी सदस्य राजकुमारी भार्गव ने आवश्यक कानूनी कार्रवाई कर बच्ची को नए मां-बाप के सुपुर्द किया। इस दौरान वहां मौजूद स्टाफ व आया की आंखें छलछला गई।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/wQlf5AAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬