[baghpat] - खुद जेल में पिस्टल लेकर तो दाखिल नहीं हुआ सुनील राठी

  |   Baghpatnews

बागपत। मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के बाद सबसे बड़ा सवाल यह है कि आखिर जिला कारागार में पिस्टल कैसे पहुंची। जेल के अंदर और बाहर राठी के खौफ के चलते उसकी चेकिंग नहीं होती थी, इससे अंदेशा है कि कहीं बागपत जेल में एंट्री के वक्त खुद राठी ही पिस्टल लेकर तो नहीं पहुंचा। राठी के खौफ और जेल की लचर व्यवस्था के चलते ऐसा होना कोई बड़ी बात नहीं है।

कुख्यात सुनील राठी का जेल में अपने तरीके से ही रहने का अंदाज है। रुड़की में जेलर की हत्या के बाद से जेलों में राठी का खौफ साफ नजर आता है। बागपत जेल में भी राठी की हुकूमत चली। जिस तरीके से राठी और उसके गुर्गों को खुली छूट मिली हुई थी, उससे इस बात को बल अधिक मिल जाता है कि राठी के पास पिस्टल पहले से ही होगा। पिछले साल जब वह जेल में दाखिल हुआ तो संभव है कि तब भी पिस्टल उसके पास ही हो, क्योंकि बागपत जेल की लचर व्यवस्था को देखते हुए राठी ने खूब हुकूमत चलाई। राठी तो क्या उसके गुर्गों को छेड़ने की हिम्मत भी जेल प्रबंधन की नहीं है। जेल में ऐसे किसी भी बंदी को चैन से नहीं रहने दिया, इससे राठी को कभी खतरा हो सकता है। एक लाख के इनामी रहे अजित उर्फ हप्पू को मेरठ जेल शिफ्ट करा दिया। जेल प्रबंधन इस बात की जांच में जुटा है कि जेल में पिस्टल लापरवाही से गया या किसी कर्मचारी की मिलीभगत से गया। कब गया और कैसे गया। डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी ने कहा जेल में पिस्टल जाने की जांच चल रही है, जल्द ही सफलता मिलेगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/YbbulwAA

📲 Get Baghpat News on Whatsapp 💬