[chhindwara] - आंखों का कैंसर सुन घबराई मां, अस्पताल पहुंची तो हुई और निराश

  |   Chhindwaranews

छिंदवाड़ा. बिना वैकल्पिक व्यवस्था किए डॉक्टरों के मीटिंग में शामिल होने की वजह से जिला अस्पताल में गुरुवार को काफी बदइंतजामी देखने को मिली। सुबह से शाम कई मरीज इलाज के लिए परेशान होते दिखे। नेत्र कैंसर, मोतियाबिंद और दुर्घटना में घायल मरीजों को इलाज नहीं मिल सका। इस दौरान स्टाफ नर्सों ने शाम को आने की सलाह दी तो दोपहर एक बजे ही विभाग में ताला लगा दिया गया।

दरअसल, राज्य अंधत्व नियंत्रण कार्यक्रम के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. हेमंत सिन्हा ने जिले के नेत्र चिकित्सा सहायकों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में जिला अस्पताल के दो नेत्र रोग विशेषज्ञ व मेडिकल कॉलेज की एक डॉक्टर शामिल हुए। जबकि प्रोटोकाल के अनुसार ओपीडी कम से कम एक डॉक्टर का मौजूद होना अनिवार्य है। वैकल्पिक व्यवस्था न बनाए जाने से गुरुवार को कई मरीज परेशान होते रहे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/oIy_YwAA

📲 Get Chhindwara News on Whatsapp 💬