[dewas] - 3 करोड़ की जगह आई 15 लाख का फसल बीमा राशि

  |   Dewasnews

सतवास. तहसील के अंतिम छोर पर स्थित ग्राम पंचायत भांमर के करीब 400 किसानों को नाम मात्र का प्रधानमंत्री फसल बीमा स्वीकृत होने के बाद से किसान ही राजस्व, कृषि एवं बीमा कंपनी कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। गौरतलब है कि गत वर्ष सोयाबीन फसल की अनावरी मात्र 0.615 ग्राम थी, बावजूद इसके किसानों को मात्र 2169 रु. प्रति हैक्टेयर की दर से फसल बीमा राशि के रूप में स्वीकृृत हुए हैं। जबकि क्षेत्र के सबसे बड़े ग्राम बांईजगवाड़ा की अनावरी 0.750 ग्राम थी, लेकिन वहां के किसानों को करीब 20 हजार रु. हेक्टेयर की दर से फसल बीमा राशि स्वीकृत हुई है। अगर इसी दर से बीमा स्वीकृत हो जाता तो ग्राम भांमर के सभी किसानों को करीब 3 करोड़ की बीमा राशि मिलती, लेकिन अधिकारियों की चूक के चलते अब किसानों को मात्र 15 लाख से संतुष्ट होना पड़ेगा। हालांकि प्रभावित किसानो ने राजस्व विभाग द्वारा भेजी गई। अनावरी रिपोर्ट की सत्यापित प्रति निकाल ली है, इसमें भी अनावरी बेहद कम है। बीमा कंपनी के सर्वेयर ने भी स्वीकार किया कि ग्राम पंचायत भांमर की अनावरी कम थी और उन्हेंं ज्यादा बीमा मिलना था। प्रभावित किसानों ने कलेक्टर के नाम तहसीलदार को आवेदन देकर जांच की मांग की है। शुक्रवार को किसान सांसद नंदकुमारसिंह चौहान से मिलेंगे। अधिकारिक स्तर पर कार्रवाई नहीं होने पर किसान कोर्ट की शरण लेने की मन बना रहे हैं।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/fcAQHAAA

📲 Get Dewas News on Whatsapp 💬