[hanumangarh] - आंकड़ों के मकडज़ाल में उलझा शेयर

  |   Hanumangarhnews

हनुमानगढ़.

आंकड़ों के मकडज़ाल में राजस्थान का शेयर अक्सर उलझा रहता है। इसका बड़ा कारण हरिके हैड पर ऑटोमैटिक की बजाय मैन्यूअल तरीके से गेज रीडिंग होना है। इस अहम हैड से राजस्थान क्षेत्र में इंदिरागंाधी नहर में पानी प्रवाहित किया जाता है। यह प्वाइंट पानी की मात्रा नापने के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण है। लेकिन पंजाब और राजस्थान के अधिकारियों में तालमेल का अभाव होने के कारण हरिके हैड पर ऑटोमैटिक गेज रीडिंग का प्रोजेक्ट सिरे नहीं चढ़ रहा।

हालत यह है कि बीबीएमबी की बैठक में राजस्थान ने करीब दो वर्ष पहले हरिके हैड सहित प्रमुख अंतरराज्यीय हैडों पर ऑटोमैटिक गेज रीडिंग की व्यवस्था लागू करने की मांग की थी। इसके बाद कुछ जगह उपकरण भी लगा दिए गए। लेकिन सॉफ्टवेयर अपलोड नहीं करने के कारण अब तक प्रमुख हैडों पर पानी की मात्रा मैन्युअल तरीके से ही नापने का काम चल रहा है। तकनीक से कदमताल करने में दोनों प्रदेश के अधिकारियों के आलसी रवैये का खामियाजा प्रदेश के किसानों को भुगतना पड़ रहा है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/sSuTywAA

📲 Get Hanumangarh News on Whatsapp 💬