[indore] - छेड़छाड़ से परेशान किशोरी के सुसाइड में फंसे पुलिस अधिकारी

  |   Indorenews

द्वारकापुरी सुसाइड केस

इंदौर. द्वारकापुरी में किशोरी की आत्महत्या के मामले में सीएसपी एसकेएस तोमर ने वरिष्ठ पुलिस अफसरों को जांच रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में मामले में सस्पेंड हो चुके एसआइ व हेड कांस्टेबल के साथ ही महिला एसआइ को भी दोषी माना है। सभी कर्मचारियों पर अपनी जिम्मेदारी का निर्वाहन नहीं करते हुए लापरवाही करने की बात कही गई है।

5 जुलाई की शाम द्वारकापुरी इलाके के प्रजापत नगर निवासी किशोरी गायत्री जाट ने घर में फांसी लगा ली थी। उसे कॉलोनी में ही रहने वाला मिलन चौहान कई दिनोंं से परेशान कर रहा था। किशोरी के माता-पिता समझाने गए तो मिलने के मां व पिता ने उल्टा उन्हें ही धमकाया दिया। आरोप है कि मिलन ने किशोरी पर तेजाब डालने की और मां ने पिता को झूठे केस में फंसाने की धमकी दी। किशोरी व उसके परिजन कार्रवाई की मांग को लेकर द्वारकापुरी थाने पहुंचे, लेकिन एसआइ ओंकारसिंह कुशवाह ने शिकायत पर ध्यान नहीं दिया। 3 जुलाई को फिर थाने गए तो एसआइ ने महिला एसआइ संध्या उरमलिया को कार्रवाई के लिए कहा। 5 जुलाई को भी थाने पर शिकायत की गई, लेकिन कार्रवाई नहीं की, बाद में निराश होकर किशोरी ने आत्महत्या कर ली। डीआइजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने एसआइ कुशवाह व एचसीएम की भूमिका निभाने वाले हेड कांस्टेबल वृंदावन पटेल को सस्पेंड कर जांच के आदेश दिए थे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/-lkSiwAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬