[jabalpur] - प्यार और पैसा - दोनों देता है लक्ष्मीजी का यह सरल स्तोत्र

  |   Jabalpurnews

जबलपुर। शुक्रवार को लक्ष्मीजी की पूजा श्रेष्ठ फल देती है। इस दिन स्नान कर श्रीसूक्त का पाठ करें। श्रीसूक्त की प्रारंभिक 16 ऋचाओं का पाठ भी पर्याप्त होता है। नियमित रूप से यह पाठ करने पर जीवन के सभी सुख मिलते हैं। प्रेमी-प्रेेमिका, पति-पत्नी का सुख और धन-सपंत्ति प्राप्त होती है।

आज का पंचांग

शुभ विक्रम संवत् : 2075

संवत्सर का नाम : विरोधकृत्

शाके संवत् : 1940

हिजरी संवत् : 1439,

मु.मास: सव्वाल-28

अयन : उत्तरायन

ऋतु : ग्रीष्म

मास : आषाढ़

पक्ष : कृष्ण

प्रात: 8.37 तक अमावस्या उपरांत नंदा संज्ञक तिथि प्रतिपदा रहेगी। अमावस्या तिथि के स्वामी पितर है। अत: इस तिथि में किए गए कार्य शुभ नहीं होते। मंत्र तंत्र साधना पितर तर्पण तथा स्नानदान की महत्ता है। नंदा तिथि प्रतिपदा में पौधारोपण, अनाज भंडारण, कृषि कार्य, क्रय-विक्रय, पठन-पाठन जैसे कार्य शुभ तथा सुखद माने जाते हैं। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/eePTRwAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬