[jaipur] - पुलिस को नहीं पता इस शहर में कितने लोग हैं बाहरी

  |   Jaipurnews

जयपुर

नौकर, किराएदार व मजदूर चोरी, लूट व हत्या जैसी वारदात को अंजाम दे जाते हैं और पुलिस की गिरफ्त से भी बच निकलते हैं। चौमूं शहर में एेसे करीब ढाई हजार बाहरी लोग रह रहे हैं लेकिन पुलिस अब तक मात्र 150 का ही पता लगा पाई है। जबकि वारदात के बाद परिजनों को विरह-वेदना सहन करनी पड़ती है और पुलिस को इन्हें पकडऩे में खासी मशक्कत करनी पड़ती है। चौमूं शहर इस तरह की हत्या की वारदातों से गुजर चुका है। हालांकि पुलिस का कहना है कि नौकर, किराएदार का पहले ही सत्यापन करवा लिया जाए तो ऐसी वारदात को कुछ हद तक रोका जा सकता है। पुलिस का कहना है कि लोगों को घर में किराएदार, दुकान व फैक्ट्री आदि में बाहर से आए मजदूरों का पहले थाने में सत्यापन कराना चाहिए। पुलिस उनके घर आदि ठिकानों पर पता लगाकर उनका सत्यापन करेगी। उसके बाद उन्हें काम पर रख सकते हैं। इससे किसी बड़ी घटना को रोका जा सकता है। अन्यथा ज्वैलर और विवाहिता के साथ हुई वारदात किसी के साथ हो सकती है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/QjQiVAAA

📲 Get Jaipur News on Whatsapp 💬