[jharkhand] - बिजली को लेकर मुख्यमंत्री हांक रहें डींगे और सांसद रो रहे रोना: झाविमो

  |   Jharkhandnews

रांची।झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि जिस झारखंड की बिजली से देश के कई राज्य ही नहीं बल्कि दूसरे देश भी रोशन होते हैं। उसी राज्य के उपभोक्ताओं को बिजली रानी के नखरे से दो-चार होना पड़े वह झारखंड सरकार के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने जैसा है। राज्य के मुख्यमंत्री भले ही बिजली उपलब्ध कराने को लेकर बड़ी-बड़ी डींगें हांकते हैं परंतु जमीनी हकीकत काफी भयावह है। गांवों-कस्बों, प्रमुख शहरों की बात छोड़िए राजधानी रांची में बिजली की स्थिति लचर है।

धनबाद में 10 घंटे से अधिक बिजली नहीं रहती

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह के पास विगत 8 जुलाई को कोलकाता में डीवीसी की समीक्षात्मक बैठक में भाजपा के ही तीन माननीय सांसद द्वारा राज्य में बिजली की अनियमित आपूर्ति को लेकर गिड़गिड़ाना व केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा जारी छठे इंटीग्रेटेड रेटिंग में झारखंड को सी ग्रेड मिलना बिजली को लेकर मुख्यमंत्री के द्वारा किये जा रहे तमाम दावों की धज्जियां उड़ाने के लिए काफी है। बैठक में धनबाद के सांसद केन्द्रीय मंत्री को बता रहे थे कि शहर में 10 घंटे से अधिक बिजली नहीं रहती, वहीं चतरा के सांसद रोना रोते हैं कि धनबाद में 10 घंटे तो बिजली रहती भी है हमारे यहां तो बिजली रहती ही नहीं। गांव में तो अंधेरा ही अंधेरा कायम है। इन सांसदों की बातों से प्रदेश में बिजली की वास्तविक स्थिति को समझा जा सकता है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/risi2gAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬