[jharkhand] - विद्यार्थियों को दें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, बच्चों और विद्यालयों की अलग ग्रेडिंग करें शिक्षक

  |   Jharkhandnews

शिक्षा विभाग की बैठक गुरुवार को समाहरणालय में हुई। इस मौके पर उपायुक्त जटाशंकर चौधरी ने शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को ईमानदारी से काम करने को कहा। नीति आयोग द्वारा शिक्षा से संबंधित दिए गए आठ इंडिकेटर पर विमर्श करते हुए महिला शौचालय, पेयजल सुविधा, विद्युतीकरण, निर्धारित शिक्षक-छात्र अनुपात, 15 वर्ष से अधिक आयुवर्ग की छात्राओं की साक्षरता दर, सीखने की क्षमता, शिक्षण सत्र में पठन सामग्रियों की उपलब्धता के बारे में बताया गया।

डीसी ने शिक्षा अधिकारियों को ड्रॉप अाउट बच्चों की सूची तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चों की सूची तैयार कर इनके लिए विशेष कक्षा की व्यवस्था करें। अधिगम स्तर का अनुश्रवण करने का निर्देश प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों को दिया गया। बीईईओ से कहा कि वे संकुलवार शिक्षकों का और विद्यालयों का ग्रेड निर्धारण करें। सभी शिक्षकों को विद्यालयों में बच्चों की ग्रेडिंग करने तथा शिक्षा के स्तर में बेहतर प्रदर्शन करने वाले बच्चों और कमजोर बच्चों को अलग-अलग टैग करने के निर्देश दिए गए। वहीं शिक्षक स्मिथ कुमार सोनी, आमोद कुमार रंजन, अभिषेक रंजन, संजय कुमार आदि ने अपने अनुभव साझा किए। सभी शिक्षकों को 15 दिनों के अंदर विद्यालय और बच्चों का ग्रेडिंग करने का निर्देश दिया। बैठक में डीईओ नीरू पुष्पा टोप्पो, डीएसई उपेंद्र नारायण, सहायक कार्यक्रम पदाधिकारी सुभाष हेमरोम सहित सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी और 60 संकुल के शिक्षक मौजूद थे। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/MCUBFgAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬