[kotdwar] - प्राइवेट पब्लिकेशन की किताबें पढ़ाने पर डिप्टी बीईओ ने किया औचक निरीक्षक

  |   Kotdwarnews

कोटद्वार। कोटद्वार और भाबर के कई विद्यालयों में प्राथमिक और जूनियर कक्षाओं में एनसीईआरटी के बजाय प्राइवेट पब्लिकेशन की किताबें पढ़ाए जाने की शिकायत पर उप शिक्षा अधिकारी दुगड्डा ने सिमलचौड़ स्थित एक स्कूल में औचक निरीक्षण किया। जांच के दौरान पाया गया कि स्कूल प्रबंधन ने एनसीईआरटी की किताबों की जगह प्राइवेट पब्लिकेशन की महंगी किताबें बच्चों से मंगाई हैं। स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जिलाधिकारी और विभागीय अधिकारियों को रिपोर्ट की जा रही है।

उपशिक्षा अधिकारी अभिषेक शुक्ला ने बताया कि शासनादेश के विपरीत एनसीईआरटी की किताबों की जगह अभिभावकों से प्राइवेट पब्लिकेशन की महंगी किताबें खरीदवाने की शिकायतें मिल रही थीं। बृहस्पतिवार को उन्होंने विद्यालय का औचक निरीक्षण कर पुस्तकों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि जांच के दौरान कक्षा एक से पांच तक अधिकतर पुस्तकें प्राइवेट पब्लिकेशन की पढ़ाई जा रही हैं। इनकी कीमत साढ़े तीन सौ से पांच सौ रुपये है। कक्षा छह से आठ तक गणित और विज्ञान की किताबें भी विद्यालय में प्राइवेट पब्लिकेशन हाउस की पढ़ाई जा रही हैं। इनकी कीमत चार सौ रुपये अंकित थी। शुक्ला ने बताया कि सरकार के आदेश पर हर स्कूल में एनसीईआरटी की पुस्तकें ही पढ़ाने के निर्देश हैं। जहां भी प्राइवेट पब्लिकेशन की पुस्तकें पढ़ाने की शिकायत मिलेगी, कार्रवाई की जाएगी। बताया कि स्कूल की जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी और मुख्य शिक्षा अधिकारी को भेेेजी जा रही है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/rCn1YAAA

📲 Get Kotdwar News on Whatsapp 💬