[neemuch] - पांच साल बाद भी नहीं खुल रहा छात्रावास का दरवाजा

  |   Neemuchnews

नीमच. जिलेभर से महाविद्यालय में आकर पढ़ाई करने वाली छात्राओं को आवासीय सुविधा मुहैया कराने के लिए दो मंजिला कन्या छात्रावास बन कर तैयार हो चुका है। लेकिन अभी तक छात्राओं को उक्त छात्रावास की सौगात नहीं मिली है। ऐसे में आज भी बाहर से आनेवाली छात्राओं को या तो डेली अपडाउन करना पड़ता है या फिर उन्हें महंगे दाम चुका कर किराए से मकान लेकर रहना पड़ता है।

बतादें की स्वामी विवेकानंद शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में जिलेभर से छात्राएं आकर पढ़ाई करती है। कुछ छात्राएं ऐसी है जो जिले के दूर दराज क्षेत्र में निवास करती है। ऐसे में उन्हें प्रतिदिन की आवाजाही करना मुश्किल होता है। इस कारण अधिकतर छात्राएं शहर में रूम या मकान किराए से लेकर रहती है। जो काफी महंगा पड़ता है। लेकिन छात्राओं को छात्रावास में आवासीय सुविधा का लाभ नहीं मिल रहा है। जबकि छात्रावास की पहली मंजिल करीब २०१३ में ही बन कर तैयार हो चुकी थी। ऐसे में पांच साल बाद भी छात्राएं किराए के मकानों में रहने को मजबूर हैं। जबकि वर्तमान में महाविद्यालय में स्थित छात्रावास की दूसरी मंजिल भी बनकर तैयार हो चुकी है। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/xkYn7AAA

📲 Get Neemuch News on Whatsapp 💬