[sirmour] - गोदामों में सड़ने लगा लहसुन, नहीं मिल रहे खरीदार

  |   Sirmournews

संगड़ाह (सिरमौर)। दशकों तक अदरक ने किसानों की कमर तोड़ी। अदरक के अज्ञात बीमारी की चपेट में आने से किसानों ने लहसुन को एक विकल्प के तौर पर चुना। इसमें कामयाबी भी मिली। एक तरह से लहसुन अच्छी खासी आमदनी का जरिया भी बन गया। लेकिन, एकाएक मंदी के कारण अब लहसुन ने भी उत्पादकों का गणित बिगाड़ कर रख दिया है। करीब नौ माह में तैयार होने वाली इस फसल को इस बार खरीदार ही नहीं मिल पाए हैं। हजारों क्विंटल लहसुन को उत्पादकों ने स्टॉक कर दिया। हालत यह है कि गोदामों और घरों में स्टॉक करके रखा लहसुन सड़ने के कगार पर पहुंच गया है। इस बार किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। किसानों ने पांच से छह हजार प्रति क्विंटल के हिसाब से महंगे दामों पर बीज के लिए लहसुन खरीदा था। दिन-रात मेहनत करने के बावजूद मौजूदा समय में लहसुन को महज 1000 से 2500 रुपयेे प्रति क्विंटल बेचना पड़ रहा है। लिहाजा, किसान चिंतित हैं और परेशान भी। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/CSRMlQAA

📲 Get Sirmour News on Whatsapp 💬