[tikamgarh] - संस्थागत प्रसव में जच्चा-बच्चा सुरक्षित व योजनाओं का लाभ भी

  |   Tikamgarhnews

टीकमगढ़. जिले में वर्तमान में 85 प्रतिशत प्रसव ही अस्पतालों में हो रहे है। यह लक्ष्य हमें शत-प्रतिशत पूरा करना है। ताकि हितग्राहियों को शासन की योजनाओं का लाभ मिल सके। वहीं जनसंख्या नियंत्रण के लिए भी सभी को प्रयास करने होंगे। यह बात कलेक्टर अभिजीत अग्रवाल ने जनसंख्या स्थिरीकरण पखवाड़े के तहत आयोजित कार्यशाला में कहीं। यह पखवाड़ा 24 जुलाई तक चलेगा।

स्थानीय उत्सव भवन में जनसंख्या स्थितिकरण पखवाड़े के दूसरे दिन कार्यशाला का आयोजन कयिा गया। इस कार्यशाला में जतारा, पृथ्वीपुर तथा निवाड़ी ब्लॉक की स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आशा एवं आशा सहयोगिनियों से कलेक्टर अभिजीत अग्रवाल ने सीधे संवाद किया। उन्होंने सभी से योजनाओं के विषय में जानकारी ली। कलेक्टर ने कहा कि संस्थागत प्रसव न होने पर जहां जच्चा-बच्चा की जान को खतरा रहता है, वहीं इन लोगों को शासन से मिलने वाली सहायता भी नही मिल पाती है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्रमिक प्रसूति सहायता तथा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ प्रत्येक पात्र हितग्राही को दिलाने की बात कहीं। अग्रवाल ने कहा कि पिछले चार माह में जो भी पंजीकृत हितग्राही हैं उन्हें 4 अगस्त तक राशि प्रदान की जाए।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/RqEPzwAA

📲 Get Tikamgarh News on Whatsapp 💬