[udaipur] - सीताफल ने बदली आदिवासी महिलाओं की तकदीर...उदयपुर की इस देन को पीएम मोदी ने भी सराहा

  |   Udaipurnews

मुकेश हिंगड़/उदयपुर . प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को पाली के महिला समूह से बातचीत में सीताफल का गूदा निकालने एवं उनके विपणन की जिस तकनीक को सराहा, वह लेकसिटी की देन है। जहां मार्केटिंग पर करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद कई उत्पाद बाजार में जगह नहीं बना पाते हैं, वहीं इस तकनीक से जंगलों में बहुतायत में होने वाले सीताफल ने अनपढ़ आदिवासी महिलाओं की जिन्दगी बदल दी है। मोदी से बातचीत में इन महिलाओं ने बताया कि उन्होंने महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से ट्रेनिंग ली और वे आज इस मुकाम पर है। उदयपुर संभाग में अरावली की पहाडिय़ों में बहुतायत में सीताफल की पैदावार होती है। आदिवासी सीताफल की खेती में अपनाई जाने वाले तकनीक, इसकी तुड़ाई और उसके बाद की प्रक्रिया के बारे में नहीं जानते थे। वे सीताफल को अपरिपक्व अवस्था में तोडकऱ ठेकेदारों को बेच देते थे या सडक़ किनारे बैठकर खुदरा ब्रिकी कर देते थे, जिससे उन्हें बहुत कम दाम मिलते थे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/GM30wwAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬