[ujjain] - मंगलनाथ मंदिर मानसेवी प्रबंधक की जेब में कहां से आए 1.32 लाख रुपए

  |   Ujjainnews

उज्जैन. मंगलनाथ मंदिर की भात पूजा और दान की राशि में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। कक्ष में जांच के दौरान मंदिर मानसेवी प्रबंधक की जेब से बेहिसाब 1.32 लाख रु. से अधिक की राशि मिली है। इसके अलावा अन्य अनियमितता भी सामने आई है। कलेक्टर के आदेश पर प्रबंधक को पुलिस के हवाले कर दिया है।

मंगलनाथ मंदिर में भात पूजन के साथ दान की राशि, सामग्री में गड़बड़ी और अन्य अनियमितताओं की शिकायत के बाद मंदिर प्रबंध समिति के प्रबंधक का कक्ष बुधवार को सील कर दिया गया था। गुरुवार को उज्जैन एसडीएम अनिल बनवारिया के निर्देश पर नायब तहसीलदार मूलचंद जूनवाल, नायब तहसीलदार आलोक चौरे और अन्य राजस्व अधिकारियों ने मानसेवी प्रबंधक त्रिलोक विजय सक्सेना को बुलवाकर कक्ष को खोला और हिसाब किताब की जांच की। जांच में भात पूजन एवं अन्य दान की 1 लाख 20 हजार 200 रुपए की राशि का मिलान तो हो गया, लेकिन भगवान को अर्पित किए जाने वाले आभूषण और अन्य सामग्री का रिकॉर्ड नहीं मिला है। इसमें मंगल सूत्र, सोने के अन्य टुकड़े और आभूषण शामिल हैं, जो कक्ष से मिले पर रिकार्ड में दर्ज नहीं थे। खास बात यह कि सक्सेना के पास से जो राशि मिली उसमें 500 के 67 नोट ऐसे थे जो बंद हो चुके हैं। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/4kV2fgAA

📲 Get Ujjain News on Whatsapp 💬