👉अलवर लिंचिंग में पुलिस ने अकबर को 😱4 किमी दूर अस्पताल ले जाने में लगाए ⏰3 घंटे

  |   समाचार / Alwarnews / Rajasthannews

राजस्थान के अलवर में 'भीड़तंत्र' की कथित हिंसा (मॉब लिंचिंग) में अकबर खान के मारे जाने के बाद राजस्थान पुलिस सवालों के घेरे में है. अलवर से बीजेपी के विधायक और चश्मदीदों का आरोप है कि खान की पुलिस पिटाई में मौत हुई है. विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने दावा किया, ''गो तस्कर की मौत अस्पताल ले जाते समय हुई. मैं इस मामले में न्यायिक जांच की मांग करता हूं, जिससे यह साफ हो जाएगा कि हत्या भीड़ ने की है या फिर उसकी मौत पुलिस की पिटाई से हुई है.''

पूरे घटनाक्रम में पुलिस को सूचना देने वाले चश्मदीद नवल शर्मा ने दावा किया है कि पुलिस घटनास्थल से अकबर को जीवित ले गई थी. उन्होंने बताया कि मौके पर पहुंचे तो एक व्यक्ति खेत की मिट्टी में सना हुआ था उसे वहां से उठाकर थाना लेकर आए और उसे नहलाया गया और वह आसानी से चल पा रहा था.

चश्मदीद के मुताबिक पीड़ित को पुलिस अस्पताल नहीं ले गई. कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा है कि घटनास्थल से अस्पताल की दूरी मात्र चार किलोमीटर थी. पुलिस घटनास्थल पर करीब एक बजे पहुंची और पीड़ित को करीब चार बजे अस्पताल ले गई.

उन्होंने कहा कि उसके कपड़े भी एक शख्स द्वारा लाए गए थे और मेरे सामने ही पुलिस द्वारा उसकी पिटाई की गई थी. शर्मा ने बताया कि करीब 1 बजे पुलिस थाने में आने के बाद हम 3 बजे गायों को लेकर गौशाला छोड़ने चले गए तब वापस 4 बजे आए तो उसकी मृत अवस्था में पड़ा हुआ था. शर्मा ने आरोप लगाया कि पुलिस निर्दोष लोगों को फंसा रही है.

वहीं रामगढ़ के सामुदायिक चिकित्सा केंद्र के डॉक्टर हसन अली ने बताया कि उन्हें सुबह 4 बजे पता चला था और स्टाफ ने बताया कि पुलिस एक डेड बॉडी लेकर आई है. जब अस्पताल आया तो वह मृत अवस्था में था. उसके चेहरे पर किसी भी तरह के चोट के निशान नहीं थे और ना ही खून निकला हुआ था और किसी तरह से ऐसा नहीं लग रहा था उसके साथ किसी तरह के निशान हो.

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/37E5lQAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬