👉बिहार में बदल गया 🥃शराबबंदी कानून

  |   समाचार / Biharnews

बिहार में 5 अप्रैल 2016 से लागू शराबबंदी कानून में सरकार ने सोमवार को नरमी बरतते हुए कई बड़े बदलाव कर दिए हैं। जब बिहार सरकार ने पूर्ण शराबबंदी लागू किया था तो हर तरफ सरकार के इस कदम की काफी तारीफ हुई थी. हालांकि शराबबंदी लागू होने के बाद भी गैरकानूनी रूप से शराब की तस्करी की घटनाएं आती रहती हैं.

शराबबंदी कानून में जो संशोधन हुआ है उसमें सजा को लेकर नरमी बरती गई है. घर, वाहन और खेत से शराब जब्ती होने पर नरमी दिखाई जाएगी. पहली बार शराब पीते हुए पकड़े जाने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना या फिर तीन महीने जेल का प्रावधान किया जाएगा. वहीं, सामूहिक जुर्माना समाप्त करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी गई है.

इसके अलावा जहरीली शराब से मृत्यु होने पर सख्त कानून के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है. इसमें सजा-ए-मौत का प्रावधान हो सकता है. सरकार पहले से ही शराबबंदी कानून में बदलाव के लिए कानूनविदों से सलाह करने का काम कर रही थी.

बिहार विधानसभा में शराबबंदी संसोधन विधेयक पेश करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि अनुभाव के आधार पर शराबबंदी कानून में बदलाव किए गए हैं. इसके लिए लीगल राय भी ली गई. नीतीश कुमार ने कहा कि राय के आधार पर संशोधन की जरुरत महसूस हुई. लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि सिर्फ कानून से काम नहीं हो सकता है. इस दौरान नीतीश कुमार ने बिना नाम लिए विपक्ष पर भी हमला किया. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों सुधार की बात को भी पसंद नहीं करते हैं. कुछ लोगों को आप नहीं बदल सकते हैं.

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/PIUOmAAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬