[betul] - सड़क और रपटा हुआ क्षतिग्रस्त, लगाना पड़ रहा 5 किमी का फेरा

  |   Betulnews

टिमरनी/करताना. कुहीग्वाड़ी गांव में बजरंग मंदिर के सामने नदी पर बना रपटा क्षतिग्रस्त होने से ग्रामीणों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यह रपटा पंचायत हर साल बनाती है लेकिन रपटा केवल गर्मी के दिनों में ही टिकता है। नदी में पानी बढऩे पर यहां से रास्ता बंद हो जाता हैं। इस रपटे से गोंदागांव गंगेश्वरी नर्मदा तट जाने का रास्ता भी है। जिसकी लंबाई लगभग 2 किमी है। यह रास्ता भी बारिश में कीचड़ एवं दलदल में तब्दील हो जाता है। नहरों का पानी खेतों से होते नदी में पहुंचने पर रपटे पर लबालब पानी भरा जाता है। रपटे पर कजियां भी जमा हो जाती है जिससे रपटे पर से गुजरते समय हादसे का डर बना रहता है। गोदागांव पहुंच मार्ग कीचड़ में तब्दील होने से वाहन से दूर पैदल चलना भी मुश्किल हो जाता है। जिससे नर्मदा तट पहुंचने एवं नर्मदा परिक्रमा करने वाले श्रद्धालुओं को कई किमी का फेर लगाकर आना जाना करना पड़ता है। वहीं गांव के लगभग 150 किसान प्रतिदिन आवागमन करते है। किसान ईश्वर सिंह राजपूत ने बताया कि कभी तो इस रपटे पर ट्रेक्टर फंस जाते है। कुहीग्वाड़ी से गोंदागांव आने जाने के लिए 2 किमी की दूरी तय करनी होती लेकिन अभी यह स्थिति है कि गोंदागांव त्रिवेणी संगम तक पहुंचने के लिए लंबा फेर लगाना पड़ता है। नदी पर बने रपटे को पंचायत सहित ग्रामीणों ने कई बार बनवाया, लेकिन यह रपटा हर बार बाढ़ में बह जाता है। ग्रामीणों ने पक्का रपटा बनाने की मांग की है। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/6lgp9gAA

📲 Get Betul News on Whatsapp 💬