[bihar] - मुजफ्फरपुर बालिका गृह परिसर में खुदाई शुरू, पीड़ित लड़की ने की स्पॉट की पहचान

  |   Biharnews

मुजफ्फरपुर बालिका गृह में एक लड़की की हत्या करने के बाद शव को दफनाने मामले में आज परिसर की खुदाई की जा रही है. पीड़ित लड़कियों के बयान पर यहां से तथ्य निकालने की कोशिश की जा रही है. मौके पर सिटी एसपी पी के मंडल, डीएसपी मुकुल रंजन, महिला थाना प्रभारी ज्योति कुमारी और दूसरे अधिकारी मौजूद हैं. मजिस्ट्रेट की निगरानी में परिसर की खुदाई की जा रही है. पीड़ित लड़कियों ने स्पॉट की पहचान की है. इस पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी भी कराई जा रही है. 2103-2018 के बीच इस अल्पासवास गृह से छह लड़कियां गायब हुई थी. बालिका गृह की एक पीड़ित लड़की ने कोर्ट के समझ बयान दिया है कि बात नहीं मानने पर एक लड़की की इतनी पिटाई की गयी थी कि उसकी मौत हो गयी और फिर बाद में आनन फानन में उसके शव परिसर में दफना दिया गया था. बता दें कि पिछले एक जून को मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह में यौन उत्पीड़न मामले के खुलासा तब हुआ था जब समाज कल्याण विभाग के आदेश पर बालिका गृह चलाने वाले एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के संचालकों पर मुजफ्फरपुर के सामाजिक सुरक्षा कोषांग के सहायक निदेशक नें पॉक्सो और यौन उत्पीड़न की धाराओं में केस दर्ज कराया गया था.इससे पहले मुम्बई की संस्था टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइसेंस की टीम ने बालिका गृह के सोशल ऑडिट रिपोर्ट में यौन शोषण का खुलासा किया था. इस मामले में सेवा संकल्प एवं विकास समिति के संचालक रसूखदार ब्रजेश ठाकुर समेत 11आरोपी जेल में हैं. इनमें आठ महिलाएं भी है. ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण कांड में नया खुलासा, पिटाई से हुई थी लड़की की मौत इस मामले में जिला बाल कल्याण समिति के एक सदस्य विकास और जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी रवि रौशन को भी पुलिस ने जेल भेज दिया है, जबकि जिला बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष दिलीप वर्मा फरार चल रहे हैं. बालिका गृह यौन शोषण मामले में कई बड़े सफेदपोश और रसूखदार पुलिस की रडार पर हैं. (मुजफ्फरपुर से प्रवीण ठाकुर की रिपोर्ट)

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ogd93QAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬