[jabalpur] - मप्र में बेरोजगारों की संख्या लाखों में, नौकरी मिली इस इतने को, चौंका देंगे ये आंकड़े

  |   Jabalpurnews

जबलपुर. सरकारी संस्थानों में रोजगार की आस में हर साल चार से पांच हजार युवा जिला रोजगार कार्यालय में पंजीयन कराते हैं। लेकिन, पंजीयन के अनुपात में भर्ती नहीं होने से पंजीकृत बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जा रही है। वर्तमान में जिले में पंजीकृत बेरोजगारों की संख्या 75 हजार है। युवाओं को निजी क्षेत्र में ही रोजगार मिल रहा है। इससे बेरोजगारी बढ़ रही है।

news fact-

हालात... सरकारी संस्थानों में रोजगार के अवसर कम

जिले में 75 हजार पंजीकृत बेरोजगार, लेकिन नाममात्र को ही मिल रहा काम

जानकारी के अनुसार रोजगार कार्यालय में हर साल चार से पांच हजार युवा पंजीयन करवाते हैं। इसके विपरीत 2 हजार को ही रोजगार मिल पाता है। इसमें 98 प्रतिशत नौकरियां निजी क्षेत्र की कम्पनियां दे रही हैं। शहर में 18 से अधिक इंजीनियरिंग कॉलेजों में हर साल लगभग 20 हजार छात्र प्रवेश लेते हैं। इनमें से करीब 12 हजार पासआउट होते हैं। शासकीय और निजी आईटीआई में भी हर साल पांच हजार छात्र एडमिशन लेते हैं। यूनिवर्सिटी और कॉलेज छात्रों की संख्या मिला दी जाए तो आंकड़ा और बढ़ जाएगा। इनमें से ज्यादातर युवा रोजगार कार्यालय में पंजीयन नहीं कराते। इसलिए यह संख्या 75 हजार तक सीमित है। जबकि वास्तव में यह संख्या सवा लाख से अधिक है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/UFDnxgAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬