[jaipur] - राजस्थान का सशक्त इतिहास और समृद्ध साहित्य की अनूठी विरासत समाई है यहां की बोलियों में...

  |   Jaipurnews

जयपुर। राजस्थान के इतिहास का एक सिरा इतिहास और साहित्य की किताबों में समाया है तो दूसरा सिरा बोलियों की दंतकथाओं में भी चला आ रहा है। राजस्थान के सशक्त इतिहास और समृद्ध साहित्य की अनूठी विरासत समाए हुए हैं राजस्थान की बोलियां। चलिए हम बताते हैं आपको राजस्थान की बोलियों के बारे में। पश्चिम की मारवाड़ी से दक्षिण पूर्वी हाड़ौती तक और उत्तरी राजस्थान की ब्रज, मेवाती से लेकर दक्षिण राजस्थान की वागड़ी बोली जिनमें बोलने के तरीकों में फेर हैं, लेकिन हर बोली में महसूस करेंगें आप राजस्थान की आत्मा।

राजस्थानी भाषा के बारे में ये भी जानिए ......

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/nd-CDAAA

📲 Get Jaipur News on Whatsapp 💬