[rajsamand] - सीमित समय ही सही, रावली की वादियां खींच लाई सैलानियों को

  |   Rajsamandnews

देवगढ़. रेलों का संचालन समय भले ही सही नहीं है, लेकिन जैव वैविध्य को समेटे रावली टाडगढ़ अभ्यारण्य का नैर्सिगक सौन्दर्य आखिर रविवार के अवकाश के दिन पर्यटकों को गोरमघाट खींच ही लाया।

बारिश के मौसम में अवकाश के दिन गोरमघाट पर हर वर्ष पर्यटकों की बहार रहती आई है। इस बार रेलों का संचालन समय सही नहीं होने से यहां पर्यटकों को भ्रमण के लिए एक घण्टे का समय भी नहीं मिल पा रहा है। इसके बावजूद अच्छी बारिश होने के बाद पहले ही रविवार को यहां पर्यटक पहुृंचे बिना नहीं रह पाए। भीलवाड़ा, राजसमंद, उदयपुर के कई पर्यटक अपने वाहनों से कामलीघाट पहुंचे और यहंा से ट्रेन में सवार होकर गोरमघाट गए। हालांकि, इस बार भीड़ कुछ कम ही नजर आई। कामलीघाट में प्रात: 11 बजे ट्रेन में सवार होने के दौरान पर्यटकों ने बताया कि पूर्व में सूचना मिली थी कि अब कभी-भी ट्रेन बन्द होने वाली है। इसलिए सोचा कि ट्रेन बन्द होने से पहले गोरमघाट के अलौकिक दृश्यों को देखा जाए और झरने का आनन्द लिया जाए। हालांकि, समय कम मिलने की बात पर वे रेलवे विभाग को कोसते नजर आए। उन्होंने कहा कि रेलवे की हठधर्मिता के चलते इस पर्यटनस्थल पर भी लोग जाने में अब संकोच करने लगे हंै। ज्ञात रहे की मावली-मारवाड़ रेल खण्ड के कामलीघाट से 14 किलोमीटर दूर गोरमघाट पहुंचने के लिए रेल को करीब एक घन्टे का समय लगता हें। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/9R8tsAAA

📲 Get Rajsamand News on Whatsapp 💬