[sonebhadra] - रिहंद जलाशय : रोक के बावजूद मछली का शिकार

  |   Sonebhadranews

बीजपुर। जुलाई में रोक के बावजूद रिहंद जलाशय में मछली मारने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। 24 घंटे में कई कुंतल मछली का शिकार धड़ल्ले से हो रहा है। प्रजनन अवस्था में मछलियों के शिकार से कई दुर्लभ प्रजाति के खत्म होने की आशंका गहरा गई है।

अंधेरा होते ही रिहंद जलाशय के तट पर जाल व नाव के माध्यम से शिकार करने वाले लोग पूरी रात मछली का शिकार करते हैं। प्रतिदिन कई कुंतल मछलियां कोलकात समेत तमाम जगहों पर सप्लाई की जाती है। जुलाई और अगस्त मछलियों का प्रजनन काल होता है। शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन ने इन दो माह में रिहंद डैम समेत अन्य बंधियों में मछली के शिकार पर रोक लगा दी है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि दो माह पूर्व ठेकेदार का मछली मारने का टेंडर भी समाप्त हो चुका है इसके बावजूद प्रजनन काल में मछलियों का शिकार धड़ल्ले से किया जा रहा है। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/DbXMXAAA

📲 Get Sonebhadra News on Whatsapp 💬