[unnao] - मदरसों की आड़ में हो रहा कमाई का खेल

  |   Unnaonews

जिले में संचालित हो रहे मदरसों में कई का संचालन फर्जी तरीके से हो रहा है। मदरसों में न तो उर्दू पढ़ने वाले छात्र है और न ही मान्यता है। ऐसे मदरसों में उर्दू की कक्षाओं के बजाए परिषदीय स्कूलों की किताबों से पढ़ाई हो रही है। सरोसी बीईओ के निरीक्षण में मदरसों में हो रहा खेल पकड़ा गया है। बीएसए ने बीईओ से मदरसों को चिन्हित कर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

सरोसी खंड शिक्षाधिकारी आशीष चौहान ने शनिवार ब्लाक क्षेत्र के कई निजी स्कूलों के मान्यता संबंधी अभिलेख चेक किए थे। इस दौरान गोल्हेखेड़ा स्थित एमएम शिक्षण संस्थान के स्टाफ ने मदरसा संचालित होने की बात कही। जबकि स्टाफ बीईओ को मान्यता संबंधी कोई भी कागज नहीं दिखा सका। यहां न तो उर्दू पढ़ाने वाले शिक्षक और न ही उर्दू पढ़ने वाले बच्चे मिले। बच्चे सामान्य किताबों से पढ़ाई करते पाए गए। बीईओ ने लीगल नोटिस जारी कर तत्काल मदरसा बंद कराया। इसके अलावा भदेवना स्थित एमबीएसवी शिक्षण संस्थान जो कि मदरसा की मान्यता पर संचालित हो रहा है। निरीक्षण के दौरान न तो उर्दू के शिक्षक मिले और न ही बच्चों के पास कोई भी किताब पाई गई। बीईओ ने दोनों मदरसा संचालकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। साथ ही बीएसए के माध्यम से जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी को बिना मान्यता के चल रहे मदरसों के खिलाफ कार्रवाई की रिपोर्ट भेजी गई है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/zJB1GgAA

📲 Get Unnao News on Whatsapp 💬