[chittorgarh] - गो सेवा ही मानव जीवन का सबसे बड़ा धर्म

  |   Chittorgarhnews

भदेसर. गाय के अंग-अंग में देवताओं का वास होता है, गो धन से बढ़ कर न तो कोई सेवा है न धर्म है। जो गो सेवा में लग जाता है, उसे किसी और परमार्थ करने की जरूरत नहीं होती है।ये विचार सुदर्शनाचार्य महाराज ने प्रख्यात कृष्णधाम सांवलियाजी में चल रहे स्वर्ण कलश महाकुम्भ के अन्तर्गत आयोजित गो कथा में व्यक्त किए। वहीं महाकुम्भ के अन्तर्गत 21 कुण्डीय महायज्ञ का भी शुभारम्भ हुआ। सुदर्शनाचार्य महाराज ने कहा कि गो के चलने से उडऩे वाली रज से आसुरी शक्तियों का नाश होता है। इसी रज उडऩे के समय को भी शुभ माना जाता है। शास्त्रों में लिखा है कि कामधेनू की उड़ी रज से गेहंू की बनावट तैयार हुई है। उन्होंने कहा कि आज गो की जो दुर्दशा हो रही है, इसके लिए हम सब जिम्मेदार है। प्रत्येक धर्म प्रेमी परिवार को एक गो माता की सेवा करनी चाहिए। विशेष रूप से किसानों को गो पालन में रूचि दिखानी चाहिए। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण के जीवन काल के प्रसंगों को गाय के बगैर पूरा नहीं किया जा सकता। जब धरती पर दूराचार बढ़ा, सारे देवताओं में त्राही-त्राही मच गई और सभी देवता भगवान विष्णु के पास रक्षा की गुहार लेकर गए, उस समय धरती भी गाय का रूप धारण कर उनके साथ हो गई। कथा का आयोजन भदावर ब्रज सेवा मंडल की ओर से किया जा रहा है। विष्णु महायज्ञमंदिर परिसर स्थित सिंहद्वार के पास बनी यज्ञशाला में यज्ञाचार्य पं.नारायण मिश्र प्रयाग के सानिध्य में 55 पंडितों की उपस्थिति में गुरुवार सुबह 6 बजे से 21 कुण्डीय विष्णु महायज्ञ व गणेश महायज्ञ शुरू हुआ। मुख्य कुण्ड पर यजमान के रूप में मंदिर मण्डल अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा, सदस्य मदन व्यास व भैरूलाल सोनी उपस्थित थे। 25 जून तक चलने वाले इस महायज्ञ में गुरुवार को 105 जोड़ों ने भाग लिया। हवन सांय तक जारी था।सांस्कृतिक कार्यक्रमइससे पूर्व बुधवार रात्रि में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में शांतिलाल गोयल एण्ड पार्टी की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों तथा भजनों की प्रस्तुति हुई। इस अवसर पर देर रात तक श्रद्धालु जमे रहे।मुख्यमंत्री के आगमन की तैयारियों का कलक्टर ने लिया जायजाजिला कलक्टर इंद्रजीतसिंह ने गुुरुवार को सांवलियाजी पहुंच कर ध्वजादण्ड एवं कलश स्थापना समारोह के अन्तर्गत मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की प्रस्तावित यात्रा की तैयारियों का जायजा लिया। साथ ही पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक ली। कलक्टर इंद्रजीतसिंह सुबह 11.30 बजे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विपिन शर्मा के साथ सांवलियाजी पहुंचे, जहां पर भगवान सांवलिया सेठ के दर्शन करने के बाद मंदिर परम्परा के अनुसार उनका स्वागत किया गया। इस दौरान कलक्टर ने मुख्यमंत्री की यात्रा में कलश के अनावरण के दौरान रिमोट सिस्टम के साथ साथ डोरी व्यवस्था भी रखने के निर्देश दिए। इसके बाद यज्ञशाला पहुंचने पर पंडितों ने स्वागत किया। इसी दौरान प्रवचन स्थल, विभिन्न मण्डपों में भी पहुंच कर आवश्यक व्यवस्थाओं के निर्देश दिए। शर्मा ने सुरक्षा व्यवस्था, पार्किंग व्यवस्था के लिए भी अधिकारियों से जानकारी ली। बाद में मंदिर कार्यालय में जिला कलक्टर ने बैठक ली, इसमें अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के अलावा मंदिर सीईओ नारायणसिंह चारण, अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा, सदस्य मदन व्यास, भैरूलाल सोनी, भैरूलाल गाडरी, भैरूलाल जाट, उपखण्ड अधिकारी मांगीलाल रेगर, उप अधीक्षक गोपालदास रामावत, थाना प्रभारी रेखा शर्मा आदि उपस्थित थे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/mekIwwAA

📲 Get Chittorgarh News on Whatsapp 💬