[ajmer] - वाह रे सरकार...रिजल्ट निकालने में तो रहे आगे, मार्कशीट के लिए तरसा दिया स्टूडेंट्स को

  |   Ajmernews

अजमेर

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान ने देश की नामी शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश प्रक्रिया को देखते हुए सीनियर सैकंडरी परीक्षाओं का परिणाम तो जल्द जारी कर दिया, लेकिन मूल अंकतालिकाएं जारी करने में एक माह लगा दिया।

मूल अंकतालिका नहीं होने की वजह से राज्य के लाखों विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए प्रवेश लेने में परेशानी का सामना करना पड़ा। इस संबंध में लगातार शिकायतों के बाद अब जाकर सीनियर सैकंडरी की मूल अंक तालिकाएं और प्रमाण-पत्र जारी किए गए हैं।

शिक्षा बोर्ड ने सीनियर सैकंडरी विज्ञान और वाणिज्य वर्ग का परिणाम 23 मई को घोषित किया था। बोर्ड प्रशासन का तर्क था कि देश में मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा सहित नामी शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश प्रक्रिया को देखते हुए परिणाम बहुत जल्द जारी किए गए हैं। इसके बाद एक जून को सीनियर सैकंडरी कला वर्ग का परिणाम भी जारी हुआ।

परिणाम तय समय पर जारी होने के बावजूद लाखों विद्यार्थियों को इसका फायदा नहीं मिला। तय समय में मूल अंकतालिका नहीं जारी करने से विद्यार्थियों को प्रवेश प्रक्रिया में परेशानी का सामना करना पड़ा। सीनियर सैकंडरी की परीक्षाओं में आठ लाख से अधिक विद्यार्थी शामिल हुए थे। उच्च शिक्षा के लिए प्रवेश के लिए विद्यार्थियों के दस्तावेज सत्यापन के समय मूल अंकतालिका होना अनिवार्य है। मूल प्रलेख नहीं होने पर उनका प्रवेश रद्द भी किया जा सकता है।

बोर्ड ने अब भेजे मूल प्रलेखशिक्षा बोर्ड ने सीनियर सैकंडरी विज्ञान, वाणिज्य और कला वर्ग की मूल अंकतालिकाएं और प्रमाण-पत्र गुरुवार को संबंधित नोडल केन्द्रों को रवाना किए हैं। पहला परिणाम जारी होने के लगभग एक माह बाद रवाना हुए मूल प्रलेख अब विद्यार्थियों को अगले सप्ताह में ही मिल पाएंगे। राज्य के सभी जिलों के शाला प्रधान नोडल केन्द्रों से यह मूल प्रलेख लेकर उनका निरीक्षण करने के बाद विद्यार्थियों को वितरित करेंगे।

ऐसा तब है, जबकि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सीबीएसई सहित सभी राज्य शिक्षा बोर्ड को समय पर मूल अंकतालिाक और सर्टिफिकेट भेजने के निर्देश दिए थे। ताकि स्टूडेंट्स को कॉलेज और यूनिवर्सिटी में दाखिले लेने में परेशानी नहीं हो।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/w3_jlQAA

📲 Get Ajmer News on Whatsapp 💬