[amroha] - गंगा दशहरा पर लगाई आस्था की डुबकी

  |   Amrohanews

गंगा दशहरा पर ब्रजघाट में श्रद्धा का सैलाब उमड़ पड़ा। लाखों श्रद्धालुओं ने पतित पावनी में आस्था का स्नान किया। डुबकी लगाने का तड़के से लेकर दोपहर तक सिलसिला चलता रहा। श्रद्धालुओं ने मां गंगा में स्नान कर धर्मलाभ कमाया।

शुक्रवार को अधिवर्ष के दूसरे ज्येष्ठ मास की दशमी तिथि रही। ज्येष्ठ मास की दसमी तिथि को ही गंगा दशहरा मनाया जाता है। इस साल यह दूसरी बार गंगा दशहरा मनाया गया। जिस पर सवेरे से ही ब्रजघाट और तिगरी धाम में श्रद्धालु उमड़ने शुरू हो गए थे। दोपहर होने तक गंगा स्नान का सिलसिला चलता रहा। बल्कि गुरुवार की देर रात ही काफी श्रद्धालु पहुंचने शुरू हो गए थे। उन्होंने रात बारह बजे ही गंगा में आस्था की डुबकी लगा ली, जो लोग रात में नहीं जा पाए वे शुक्रवार की तड़के गंगा घाट पर पहुंचे और स्नान किया। गौरतलब है कि ज्येष्ठ मास की दसमीं तारीख को ही गंगा धरती पर आई थी। राजा भगीरथ की तपस्या से गंगा धरती पर पहुंची। तब से लेकर आज तक गंगा दशहरा हजारों साल से लगातार मनाया जा रहा है। दशहरा पर गंगा में स्नान करने से काफी पुण्य मिलता है। ऐसा पुराणों में कहा गया है। संस्कृति के रीति रिवाजों को लोग आज भी निभा रहे हैं। इसकी झलक गंगा में स्नान करने वालो को देखकर मिलती है। श्रद्धालुओं ने गंगा में स्नान कर विधि विधान के साथ पूजा अर्चना की। श्रद्धालुओं ने सूरज को अर्घ्य भी दिया। वहीं कुछ लोगों और महिलाओं ने पुरोहितों से बाकायदा पूजा अर्चना कराते हुए परिवार की मंगल कामना की। बुजुर्गों ने श्रद्धा भाव के साथ स्नान किया तो युवाओं ने स्नान के दौरान जमकर अठखेलियां की। युवा तो काफी देर तक गंगा में स्नान कर मस्ती करते रहे। इसके अलावा गंगा घाट पर स्नान कर श्रद्धालुओं ने अपनी क्षमता के अनुसार दान आदि भी दिया। काफी परिवारों ने संस्कार भी गंगा घाट पर पहुंचकर किए। बच्चों को मुंडन कराए गए। वहीं महिलाओं ने अपनी रीति के अनुसार तमाम धर्म कर्म किए। महिलाएं और बुजुर्ग भक्तिभाव के साथ स्नान करते देखे गए।

(संबंधित खबर पेज चार पर)

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/PO0HZAAA

📲 Get Amroha News on Whatsapp 💬