[azamgarh] - सफाई हुई पूरी लेकिन संकल्प अधूरा

  |   Azamgarhnews

आजमगढ़। जनसहयोग से शुुरु हुआ तमसा की सफाई का अभियान अब पूरा होने वाला है लेकिन तमसा को लेकर संकल्प अभी अधूरा है। क्योंकि जब तक हम तमसा को गंदगी मुक्त रखने का संकल्प लेकर और दूसरों को भी करने से रोकने का संकल्प नहीं लेते तब तक यह अभियान अधूरा है। उक्त बातें बाल रोग विशेषष डा. डीडी सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि प्रदूषण की मार झेल रही तमसा नदी अब जलाभाव से भी जूझ रही है। पुराने समय में हर बड़ा शहर किसी न किसी नदी के पास ही बसता था। आजमगढ़ भी पावन तमसा के तट पर बसा। उस समय यह नदी जीवन दायिनी होती थी। बताया जाता है कि शीशे की तरह ही इसका जल स्वच्छ होता था। कहानियों, कथाओं में यह जल पीने के योग्य बताया जाता है। सभी लोग तमसा का जल ग्रहण करते थे। उस समय ना ही किसी प्रकार का रोग, ना ही प्रदूषण था। लेकिन पिछले दो वर्ष से तमसा की दुर्दशा ने उन्हें द्रवित कर दिया था। जब तमसा की सफाई शुरू ह़ुई तो मैं अपने आप को रोक नहीं सका और इस अभियान में हिस्सा लिया। सफाई का यह अभियान अब अपने अंतिम चरण में है। लेकिन यह अभियान तभी पूरा होगा जब सभी इस बात का संकल्प लें कि ना हम नदी को गंदा करेंगे और ना ही किसी को करने देंगे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gqEPkwAA

📲 Get Azamgarh News on Whatsapp 💬