[bhadohi] - एक बार फिर खाली हाथ स्कूल जाएंगे नौनिहाल प्लानिंग

  |   Bhadohinews

परिषदीय स्कूलों को कान्वेंट की तर्ज पर चलाने की कवायद शुरू हुए तीन साल गुजर गए पर व्यवस्थाओं में सुधार अब तक नहीं हो सका। पुराने ढर्रे पर ही सबकुछ चल रहा है। जिले में शासन से अब तक मात्र दो कक्षाओं की 10 फीसदी किताबें ही मिल सकी हैं। आठ दिन बाद परिषदीय स्कूलों का ताला खुल जाएगा लेकिन किताब न होने से इस साल भी जुलाई में नौनिहाल खाली हाथ स्कूल जाएंगे। पहले जुलाई से नए सत्र का प्रारंभ होता था। तीन साल पूर्व शासन ने परिषदीय विद्यालयों में भी नए सत्र की शुरूआत अप्रैल से कर दिया। नामांकन से लेकर अन्य प्रक्रियाएं अप्रैल में ही पूरी की जाने लगी लेकिन नि:शुल्क किताबों के आवंटन से लेकर अन्य व्यवस्थाएं जस की तस ही चल रही हैं। एक साल दिक्कत होने के बाद उसमें सुधार नहीं दिखा। ग्रीष्मकालीन छुट्टी 30 जून को खत्म हो जाएगी। एक जुलाई से पूर्व की तरह प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालय खुले जाएंगे लेकिन नि:शुल्क किताबें न आने से बच्चे खाली हाथ ही स्कूल जाएंगे। जिले में करीब 1143 सरकारी प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालय संचालित हैं। नए सत्र में एक लाख 28 हजार छात्र-छात्राओं ने नामांकन कराया, जिनकी संख्या जुलाई में बढ़ सकती है। सभी बच्चों को हिंदी, अंग्रेजी समेत अन्य विषयों को मिलाकर सात लाख 66 हजार से अधिक किताबें दिया जाता है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमित सिंह ने कहा कि सातवीं और आठवीं कक्षा की किताबें आई है। अब तक मात्र 10 फीसदी ही किताबें आ सकी हैं। किताबें शासन से भेजी जाती हैं। वहां से किताब आने के बाद उसको वितरित कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि कि 30 जून तक भी किताबें आ जाएंगी तो उसे 15 जुलाई तक वितरित करा दिया जाएगा।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/_eQi_AAA

📲 Get Bhadohi News on Whatsapp 💬