[champawat] - आठ किमी का फासला तय, करनी पड़ रही है 45 किमी की दूरी

  |   Champawatnews

चंपावत। जिले में दियूरी से चल्थी तक आठ किमी सड़क का निर्माण न होने के कारण ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मोटर मार्ग का निर्माण न होने से क्षेत्र की जनता को आठ किमी के मामूली फासले को तय करने में 45 किमी की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ रही है। इस संबंध में ग्रामीण जनप्रतिनिधियों ने प्रस्तावित मोटर मार्ग का निर्माण शुरू करने की मांग उठाई है। ग्रामीणों का कहना है कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत वर्ष 2001-02 में धौन से दियूरी तक 15 किमी मार्ग का निर्माण पूर्व में ही पूर्ण हो चुका है, लेकिन वर्तमान समय में दियूरी से चल्थी तक आठ किमी मार्ग का निर्माण न होने से क्षेत्र के लोगों को अपने आवश्यक घरेलू सामान को लाने, क्षेत्रीय उत्पादों की बिक्री करने, बीमार व्यक्तियों को टनकपुर, खटीमा तक ले जाने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। कहा गया है कि दियूरी से चल्थी तक आठ किमी मार्ग 2015 में स्वीकृत होने के साथ विभाग की ओर से सर्वे भी की जा चुकी है, लेकिन निर्माण कार्य शुरू नहीं हो रहा है। ज्ञापन देने वालों में जिला पंचायत सदस्य उमाशंकर भट्ट, ग्राम प्रधान जानकी देवी, हेमा देवी, प्रेम राम, दुर्गा देवी आदि थे। बन सकता है राष्ट्रीय राजमार्ग का वैकल्पिक मार्ग चंपावत। क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता प्रेम सिंह, पूर्व जिला पंचायत सदस्य दुर्गा देवी के अनुसार प्रस्तावित मोटर मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग का वैकल्पिक मार्ग भी बन सकता है। बरसात के दिनों में जब राष्ट्रीय राजमार्ग मलबे के कारण बाधित हो जाता है, तो प्रस्तावित मोटर मार्ग से वैकल्पिक यातायात का आवागमन किया जा सकता है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gq-aKgAA

📲 Get Champawat News on Whatsapp 💬