[dungarpur] - इतनी सख्ती, फिर भी बेपरवाह

  |   Dungarpurnews

डूंगरपुर. शराब तस्करों से थानों के पुलिसकर्मियों की सांठ-गांठ अब उजागर हो चुकी है। पुलिस कर्मियों का इन तस्करों से दोस्ताना इतना गहरा गया है कि वे अवैध शराब को लेकर बेहद सख्त माने जाने वाले पुलिस अधीक्षक के आदेशों को मानने के बजाए शराब तस्करों को प्रश्रय दे रहे हैं। पिछले दो दिनों में जो कुछ हुआ इसने पुलिसकर्मियों की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। माड़ा गांव में लगातार अवैध शराब बिक्री की शिकायतें आ रही थी। थानाधिकारी को सूचना पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में दूसरे थाने की पुलिस को बुलाकर कार्रवाई की गई। जैसे ही जिले के अन्य थानों तक यह संदेश पहुंचा। सब के सब शराब पकडऩे के अभियान में लग गए और पुलिस अधीक्षक के समक्ष अपने नंबर बढ़ाने के फेर में कार्रवाई करने में जुट गए। नतीजा यह रहा कि दो दिन में छोटे-बड़े बीस मामले अवैध शराब बिक्री के दर्ज हो गए।

फिर भी सुधार नहींगत वर्ष नवम्बर माह में बिछीवाड़ा थाना क्षेत्र में अवैध शराब के लंबे कारोबार की सूचना पर पुलिस अधीक्षक ने थानाधिकारी को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। पर, वे कार्रवाई से बचते रहे। बाद में जिला पुलिस ने गुप्त रूप से इस गोदाम में दबिश दी और करीब दो करोड़ की शराब जब्त की। इस मामले में थानाधिकारी सहित कई पुलिसकर्मी निपटे। एसपी के इस सख्त तेवर के बाद भी रामसागड़ा पुलिस राठौड़ी में ही लगी रही और यहां भी कार्रवाई हुई। ऐसे में यह तय है कि पुलिस की कार्यशैली में अब भी बदलाव कहीं नजर नहीं आ रहा है।

कई थानों की नींद खुलीमाड़ा में कार्रवाई की खबर ने सभी थानों में दौड़ लगवा दी। एक-दो थानों को छोडक़र सभी थानों अवैध शराब रखने और परिवहन के मामले दर्ज होने की लिस्ट लंबी होती गई। यह सब यकायक नहीं हुआ। इससे यह भी जाहिर है कि पुलिस वालों को पता था कि अब भी कहां-कहां शराब बिक रही है। पुलिस अधीक्षक की सख्ती हुई तो इन थानों के पुलिस कार्मिकों ने भी दौड़ लगाई और दोस्ती भूलाकर कार्रवाई में जुट गए।

नए रास्ते हुए तैयारशराब तस्करों ने अब नए रास्ते तलाश कर लिए हैं। इन लोगों ने युवाओं और किशोरों को इस धंधे में लगा दिया है। ऐसे में छोटी कडिय़ों को जोडक़र इनके सरगना तक पहुंचने की दिशा में कार्रवाई जरूरी है।

कार्रवाई जारी रहेगीअवैध शराब ही नहीं अपराधों के खिलाफ पुलिस की मुहिम जारी रहेगी। थानों में कार्यरत पुलिसकर्मियों को जिम्मेदार बनाया जाएगा। शिकायत आने पर संबंधित पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई हो रही है। -शंकरदत्त शर्मा, पुलिस अधीक्षक

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/NsWHpgAA

📲 Get Dungarpur News on Whatsapp 💬