[faizabad] - जलस्तर 25 फीट खिसका, शहर के इलाके प्रभावित

  |   Faizabadnews

भू-जलस्तर 25 फीट खिसका, गहराया जल संकटकेस एक : 20 फीट पर नहीं चल रहा नलकूपशहर के जनौरा स्थित लक्ष्मी सागर के निकट जलकल विभाग का नलकूप चोक हो गया था। इससे पाइप लाइन में पानी नहीं जा रहा था। अभी तीन दिन पूर्व जलकल विभाग की ओर से पाइप को निकालकर 20 फीट बोरिंग नीचे कराते हुए पाइप डाला गया है। इसके बाद से नलकूप सही ढंग से संचालित हो पाया है। केस दो : 10 फीट और गहरी की बोरिंग शहर का वीआईपी एरिया कहा जाने वाले सिविल लाइंस की सुरसरि कॉलोनी में स्थित नलकूप में चोक की समस्या सामने आई थी। यहां भी वाटर लेवल 15 फीट से नीचे चला गया था। जलकल विभाग ने यहां भी 10 फीट बोरिंग गहरी करके पाइप डाला गया। इसके बाद अब व्यवस्था ढर्रे पर लौटती आई है। फैजाबाद। शहर में एक बार फिर से गर्मी के चरम पर पहुंचते ही पेयजल का संकट गहरा गया है। यहां भूमिगत जलस्तर 20 से 25 फीट तक नीचे पहुंच कर चुका है। इससे खास तौर से नाका के आसपास बसे मोहल्ले इससे प्रभावित हैं। इसके अलावा शहर के मध्य भाग में मौजूदा समय वाटर सप्लाई की पाइप लाइन पड़ने का कार्य भी चल रहा है। इससे पुरानी सब्जी मंडी, राठहवेली, अमानीगंज स्थित कॉलोनी के फेज टू व कसाबबाड़ा समेत कई मोहल्लों में पेयजल का भारी संकट है। इसके अलावा जिन मोहल्लों में 15 वर्ष पुरानी पाइप लाइन पड़ी है, इन पाइपों में पानी नहीं है। इसके चलते कनेक्शनधारी दिन भर पानी के लिए दौड़ भाग लगा रहे है। रीडगंज, देवकाली, हस्नू कटरा, नियांवा समेत कई मोहल्ले इसकी जद में है। इन स्थानों पर बिना मोटर के घरों में पानी नहीं पहुंच पाता है। वहीं नाका, सिविल लाइन, चौक व नियांवा विद्युत उपकेंद्रों पर ओवर समस्या से लो-वोल्टेज के चलते नलकूप समय पूरा पानी नहीं उठा पा रहे हैं। बिजली संकट बरकरार, लोग पस्तबीते दिनों आई आंधी-बारिश के बाद यहां पर कोई दिन भी ऐसा नहीं जाता है कि जिस दिन छह से आठ घंटे बिजली न कटती हो। पावर कॉरपोरेशन की ओर से 24 घंटे देने की बात कही जाती है। मगर फाल्ट के नाम पर प्रत्येक दिन अघोषित विद्युत कटौती का क्रम जारी है। इसके चलते पेयजल व्यवस्था भी पूरी तरह से प्रभावित होती है। कई बार नलकूप समय से संचालित नहीं हो पाते। नाका, सिविल लाइन, चौक व नियांवा विद्युत उपकेंद्रों पर ओवर समस्या से लो-वोल्टेज के चलते नलकूप समय पूरा पानी नहीं उठा पा रहे हैं। नलकूपों के संचालन में भी मनमाना रवैयाअयोध्या नगर निगम के लोगों को 54 नलकूपों से पानी की आपूर्ति की जाती है। इसमें ज्यादातर नलकूपों पर संविदा कर्मचारी नियुक्त है। यह नलकूप चलाकर गायब हो जाते हैं। इसका परिणाम यह होता है कि पाइप लाइन में पानी जा रहा है या नहीं इसको कोई देखने वाला नहीं है। कई बार फाल्ट की समस्या के चलते पानी पाइप लाइन में नहीं जाता है। जब मोहल्ले वाले नलकूपों पर पहुंचते हैं तो पता चलता है कि नलकूप चालक गायब है। विभाग इतनी भी जहमत नहीं उठाता है कि मौके नलकूपों का जाकर निरीक्षण करे। बता दें कि जलकल विभाग भारत अजीविका मिशन से नलकूप चालकों की आउटसोर्स के जरिए भर्ती करता है। 15 दिनों में शहरी क्षेत्र का भूमिगत जलस्तर कम से कम 25 फीट नीचे चला गया है। इससे जल संकट की कुछ समस्या उत्पन्न हुई है। खासतौर पर नाका के आसपास बसी नई आबादी प्रभावित है। कोशिश की जा रही है कि सभी स्थानों नगरवासियाें को पेयजल मुहैया कराया जा सके। - कामाख्या आनंद, अधिशासी अभियंता, जलकल

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/KVAJKQAA

📲 Get Faizabad News on Whatsapp 💬